अमरबेल के फायदे, नुकसान, फोटो, कीमत और वीडियो ।

329

मेरे प्यारे दोस्तों, आशा करती हूँ आप सब ठीक हो। आज का हमारा टॉपिक है कुछ अलग है, हम एक ऐसे औषधि वनस्पति के बारे में जानकारी लेने जा रहे है जो खुद का खाना खुद नहीं बनाती है। वैसे आपको तो यह बात पता होगी की वनस्पति खुद का खाना खुद तयार करती है। लेकिन, अमरबेल वनस्पति होके भी इस प्रकार में नहीं आती है। यह एक प्रकार से परजीवी के रूप में दूसरे पौधोंपर आश्रित वनस्पति है। 

इस मजेदार वनस्पति के बारे में जानने के लिए पूरा लेख जरूर पढ़ना। अमरबेल का सबसे पहला कार्य आपका वीर्य बढ़ाना है, जिन लोगोंको वीर्य कम बनने की समस्या है उनको इसका सेवन लाभकारी है। वीर्य बढ़ने के साथ साथ उसमे मौजूद शुक्राणु की संख्या को यह पौधा बढ़ा सकता है। कुछ लोगोंको आखोंकी समस्या होती है, उसमेसे आखोंकी जलन हर १० में से ४ लोगोंको होती है।

अमरबेल आँख की जलन को दूर करने का कार्य करता है। आमवात की समस्या पे भी यह रामबाण उपाय है, अगर आपने मेरी आमवात पे वीडियो नहीं देखी तो इस लिंक से आप देख सकते हो। हड्डियोंको मजबूती प्रदान करने वाली इस अमरबेल का रंग पीला होता है।

जैसे की मैंने शुरू में बताया, इसका प्रमुख कार्य वीर्य को बढ़ाना है। उसे ध्यान में रखते हुए, शादी शुदा पति पत्नी को प्रजनन संबंधी समस्या के लिए यह औषधि का इस्तेमाल किया जाता है। अमरबेल में महिला और पुरुष के प्रजनन हार्मोन्स को बढ़ाने का गुणधर्म होता है, लेकिन महिला से ज्यादा अगर पुरुष इसका सेवन करे तो पुरुष का प्रजनन हार्मोन टेस्टेस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने का काम यह औषधि ज्यादा अच्छी तरह से करती है।

अमरबेल को खाने का विधि 

इसके आपको पिले रंग के फल मिलेंगे। इन फल को पोधोंसे निकालकर सूरज की छाया में अच्छे तरह से सुखाना है, उसके बाद सूखे हुए फल का चूर्ण तयार करके बंद डिब्बे में रखना है। डिब्बे में से ३ ग्राम चूर्ण ३ मिलीलीटर पानी में मिलाकर प्राशन करना होगा।

महिलाओंके लिए भी इसी मात्रा में इसका सेवन करना सही है, लेकिन मासिक धर्म याने के पीरियडस के चौथे दिन के बाद इसका सेवन करना होगा। चूर्ण का सेवन करने बाद आप पति से सम्भोग कर सकती है, लगातार १० -१५ दिन इसका सेवन करने से आपको गर्भप्राप्ति जरूर होगी। अगर आप अमरबेल का चूर्ण बनाने के झंझट से बचना चाहती है तो इस लिंक से आप अमरबेल को अपने घर आर्डर कर सकती है।

बालोंकी समस्या

मेरे पास बालोंकी समस्या लेकर कई मरीज आते है। उनमे से ज्यादातर लोगोंकी सिर्फ एक ही परेशानी होती है, ” मैडम मेरे बल बहुत ज्यादा झड़ रहे है कुछ उपाय बताये ? ” 

उन सारे परेशां लोगोंके लिए अमरबेल बेहद गुणकारी साबित होता आया है। जिन जिन लोगोने मेरे बताये हुए तरिके को अपनाया है उनकी बल झड़ने की समस्या काफी हद तक कम हो गई है। तो चलिए आपको वः आसान तरीका बता देती हूँ, तील का तेल तो सभीको पता है। उस तील के तेल में कच्चे अमरबेल को पीसना है। तयार हुए मिश्रण को बालोंके जड़ को लगाना है। २० से २५ दिन लगातार यह क्रिया करने से आपकी गंजे पण की समस्या दूर हो जाएगी।

अब बात आती है, कच्चा अमरबेल कहा मिलेगा। तो जिन लोगोंको कच्चा अमरबेल नहीं मिल पाता है वे लोग अमरबेल का चूर्ण तील के तेल में मिलाकर भी प्रयोग कर सकते है। ध्यान रहे, तील का तेल अच्छी क्वालिटी हो। अगर आपको तील का तेल खरीदने में परेशानी आती है तो इस लिंक से आप अच्छी क्वालिटी का तेल अपने घर में आर्डर कर सकते हो।

खुजली और कब्ज की समस्या

कुछ लोगोंको शरीर पर खुजली की समस्या होती, पुरे बदन पर लाल लाल निशान आते है। ऐसे समय में अमरबेल का पिसा हुआ गुदा शरीर को लगाने से खुजली दूर भाग जाएगी। इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण मौजूद होते है। कब्ज और बवासीर पे मैंने कई सारी वीडियोस अपने यूट्यूब चैनल पे बनाई हुयी है, अगर आपको कब्ज की समस्या है तो आपको एक घरेलु नुस्खा बताती हूँ। अमरबेल का रस निकालो, १० मिलीलीटर रस में ३ ग्राम काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर एक मिश्रण तयार करलो। अब इस मिश्रण को हर सुबह खली पेट २० दिन पीना है, आपका   कब्ज और खुनी बवासीर ठीक हो जायेगा। 

आखोंके जलन के बारे में हमने ऊपर बात की है, लेकिन कुछ और बाते मई आपको बताना चाहती हूँ। अमरबेल का नियमित सेवन आपकी आखोंकी रौशनी बढाता है। अगर आप इसका सेवन नियमित रूप से करोगे तो भविष्य में होने वाली मोतिया बिंद की समस्या से आप आसानीसे दूर रह पाओगे।

दूसरे पौधे पे जिनेवाला यह पौधा आपके लिए है जीवनदान की तरह।

प्रतिरक्षा प्रणाली जिसे अंग्रेजी में हम इम्मुनि सिस्टम बोलते है, यह शरीर को तंदरुस्त रखने के लिए काफी महत्वपूर्ण चीज है। अगर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में गड़बड़ हुयी तो रोग फ़ैलाने वाले बैक्टीरिया और वायरस आपके शरीर में आसानीसे प्रवेश कर सकते है। कमजोर शरीर उसका मुकाबला अच्छे तरीकेसे नहीं कर पाता है, और आप बीमार हो जाते हो। नियमित रूप से अमरबेल का सेवन आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने का काम करता है। 

एक जमाना था जब ४० के उम्र के बाद लोगोंको डायबिटिस नाम का रोग जखड़ लेता था। में इस बीमारी के बारे में तो ज्यादा बात नहीं करने वाली लेकिन यह बीमारी आज के समय में २० उम्र के लोगोमे भी तेजीसे बढ़ रही है। गलत खान पान के वजह से लोगोंके शरीर में रक्तशर्करा का प्रमाण तेजी से बढ़ रहा है। अमरबेल का सेवन इस रक्त शर्करा के स्तर को कम करने का काम करता है, साथ आपके शरीर का अतिरिक्त फैट यानि की वसा को भी कम करता है। 

सबसे महत्व पूर्ण बात, कैंसर की कोशिकाओंको रोकने का काम अमरबेल काफी अच्छीतरह से करता है, इसीलिए इसका सेवन आप शुरू करदे ।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply

Your email address will not be published.