अमेरिका देश का इतिहास

110

आज के समय में अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशली देश है, यह बात हम सभी को पता है। बचपन में मेरे मन में विचार आता था की भारत और अमेरिका के इतिहास की तुलना कैसे करे। फिर बड़े होने पर समज आया की इतिहास के मामले इन दोनोकी कोई तुलना नहीं है। क्योंकि हमारा इतिहास तो बहुत पुराणा और काफी रोचक है वही अमेरिका देश को इतना बड़ा इतिहास नहीं है। इस देश की शुरुआत १४९२ से होती है। हम सभी को पता है, अमेरिका को कोलंबस ने खोजा था। लेकिन क्या आपको पता है दरअसल कोलंबस यूरोप से भारत को जाने वाला रास्ता ढूंढ रहा था और अमेरिका की खोज हो गई।

नामकरण –

अमेरिका इस नाम की भी कहानी है। ढूंढा तो इसको कोलंबस ने लेकिन उसको पता नहीं था की यह जमीन भारत देश की नहीं है। जब अमेरिगो वेस्पुसी ने यहा पर आने के बाद खुलासा किया की यह भारत नहीं, कोई नई जमीन है। फिर इस जगह को उसके नाम पर अमेरिका कहा गया। सबको पता लगने पर लोग यहां आने के लिए भागदौड़ करने लगे, उनमे ब्रिटेन, स्पेन और फ्रांस सबसे आगे थे। आखिर कार ब्रिटेन से यहाँ पर सबसे ज्यादा लोग आके बस गए।

उस समय अमेरिका में १३ कॉलोनी बन चुकी थी। इन कॉलोनी ने वहा पर रहने वाले लोगोंको आसानीसे हराया और वहा पर ब्रिटिश शासन के निचे काम करने लगे। लेकिन कुछ समय बाद उन्हें ब्रिटिश शासन के नियम पसंद आना बंद हो गया। फिर उनोने ४ जुलाई १७७६ में इसे एक स्वतंत्र राष्ट्र घोषित कर दिया, और नाम दिया संयुक्त राष्ट्र (United States)। संयुक्त राष्ट्र में कुल मिलाकर १३ कॉलोनीज बन गई, उसके बाद १७८८ में उनोने खुदका संविधान घोषित किया। पहले राष्ट्रपति का नाम जॉर्ज वॉशिंग्टन था। आगे जाके U S ने लुसियाना नामक बड़ा भूभाग फ्रांस से खरीद लिया। १८४५ में मेक्सिको के साथ अमेरिका का युद्ध हुआ उसमे उन्होंने मेक्सिकोको बुरी तरह से हराया था।

अमेरिका की १३ कॉलोनी

गृह युद्ध के बारे में –

यहाँ पर एक घटना हुयी थी जिसे हम गृहयुद्ध के नाम से जानते है। अमेरिका में यह युद्ध १८६१ से लेकर १८६५ तक चला था। यह युद्ध उत्तरी राज्य और दक्षिणी राज्यों में लढा गया था। इस युद्ध का कारन था वहा चलने वाली दास प्रथा। जो दक्षिणी राज्य थे वो इस प्रथा को बंद करने के विरोध में थे। उस समय उत्तरी राज्यों ने इस प्रथा के विरोध में कुछ कानून लागु किये थे, वही दक्षिणी राज्य चाहते थे की उनका और उत्तरी राज्योंका एकमत नहीं हो रहा है इसलिए हम खुदका अलग राष्ट्र बना ले। दक्षिणी राज्य अफ्रीका से लाये हुए गुलामोंको छोड़ना नहीं चाहते थे।

१८६१ में अब्राहम लिंकन अमेरिका के राष्ट्रपति बने थे। और वह चाहते थे की, दास प्रथा तो ख़त्म हो लेकिन अमेरिका की एकता और अखंडता भी कायम रहे। इसलिए उनोने खुद उत्तरी राज्योंका नेतृत्व किया और उस भीषण गृह युद्ध में दक्षिणी राज्योंको हरा दिया। इसके साथ ही अमेरिका में चली आ रही लम्बी दास प्रथा का अंत हो गया।

इस युद्ध में ७ लाख सैनिकोंकी मौत हो गई और ३ लाख आम नागरिक मारे गए। खुद अब्राहम लिंकन भी इस युद्ध का शिकार हो गए। दरसल हुआ ऐसा की युद्ध ख़त्म होने के बाद एक दिन वह अपने बीबी के साथ एक थिएटर में ड्रामा देखने के लिए गए थे। वहा पर एक कलाकार(जो दास प्रथा के समर्थन में था ) ने उन्हें गोली मार दी और अब्राहम लिंकन की उस हादसे में मौत हो गई।

विकास का काल –

गृह युद्ध के बाद अमेरिका में यूरोप से लोग आके बसना शुरू हो गया। उत्तरी राज्य दक्षिणी राज्य के तुलना में काफी तेज गतिसे विकास की राह पर चलने लगा था। उसका कारन यह था की वहा कोयला और लोह का उत्पादन बढ़ गया था। वहा पर सुविधा भी बहुत थी लेकिन टेलीग्राम का विकास होने के बाद पूरा राष्ट्र नजदीक आ गया और दक्षिणी राज्य भी काफी तेजीसे आगे बढ़ने लगे। और आज के समय में यह राष्ट्र दुनिया का सबसे ताकतवर राष्ट्र उभरकर आया है। तो दोस्तों अमेरिका राष्ट्र की जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट में जरूर बताना। हमारे यूट्यूब चैनल आयुर्वेदा को सब्सक्राइब करना न भूलना उस चैनल पे में आरोग्य के बारे में बेहतरीन ऐसी टिप्स देती रहती हूँ। आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply