आख और पलकों के फड़कने के कारण और उपचार

86

आख या पलकों का फड़कना बहुत आम बात है। डॉक्टर की भाषा में इसे “मायोकीमिया ” कहते है। लेकिन ज्यादातर इसका कारण पता नहीं होता और लोग अन्धविश्वास से जुडी बातों पर ही ज्यादा ध्यान देते है। 

आईये जानते है इसके कारण क्या है

शुरुवात में पलके हल्का हल्का फड़कना शुरू करती है। जिसका मतलब होता है की कोई गंभीर या चिकित्सा से संबधित बात नहीं है। आमतौर पर कुछ जीवनशैली से जुडी चीजे आखों और पलकों के फड़कने का कारण बनती है जैसे- 

१) तनाव – जब भी हम तनाव में होते है तो हमारा शरीर अलग अलग ढंग से प्रतिक्रिया करता है। आखों का फड़कना तनाव का सबसे पहला लक्षण माना जाता है। आपने सौरभ गांगुली को किकेट खेलते समय देखा होगा। जब भी वो मैदान में बैटिंग करते थे तो उनकी आख जोर +जोर से फड़कने लगती थी, इससे उनके दिमाग पर कितना तनाव था यह हम सोच सकते है।  

२) थकान – अच्छे ढंग से न सो पाना फिर चाहे वो तनाव या किसी अन्य कारणों की वजह से हो। थकान आखों या पलकों के फड़कने का कारण बनती है। 

३) आखों पर जोर पड़ना- आखों से जुडी समस्याएं  आख फड़कने का कारण बन सकती है। यह तक की अगर मामूली सी आखों से जुडी परेशानी है तब भी ये समस्या आपको हो सकती है।

आखोंका भेंगापन के बारे में सबकुछ। Health Tips

४) कैफीन- बहुत ज्यादा कैफीन का सेवन करना सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक होता है। कुछ लोग कैफीन के इतने शिकार बन जाते है उन्हें कैफीन के बिना एक दिन भी गुजरना मुश्किल हो जाता है ऐसे लोगों में भी आख फड़कने की समस्या हो सकती है।

५) शराब- शराब का ज्यादा सेवन करने से लिवर ख़राब हो जाता है, साथ में शरीर को कई सारे नुकसान भी होते है। इसलिए शराब का सेवन करना छोड़  दे क्यूंकि शराब भी पलकों या आखों के फड़कने का कारण बनती है। 

६) ड्राई आखे- कई बूढ़े लोगों को आखे ड्राई होने की समस्या होती है। जो लोग बहुत ज्यादा दवाइया, कैफीन का सेवन करते है उनमे भी ड्राई आखों की शिकायत हो सकती है। जो लोग लम्बे समय तक कंप्यूटर के सामने बैठते है उनमे भी ये समस्या हो जाती है। ज्यादा टीवी या मोबाईल देखने के कारण भी ये समस्या हो जाती है। जिसके कारण आखे पलके फड़क सकती है।

७)  असंतुलित पोषण – कुछ पोषक तत्वों की कमी से आखे या पलके फड़क सकती है। जैसे की मैग्नीशियम की कमी से ये समस्या हो सकती है।

८) एलर्जी – जिनकी आखों में एलर्जी होती है उन्हें खुजली,  सूजन और आखों से पानी निकलने की समस्या होने लगती है। जिसके कारण आखे और पलके फड़क सकती है।

उपाय – 

१) जैसा की हमने ऊपर बताया तनाव आखे और पलकों के फड़कने का पहला कारण है। तनाव अच्छी  जिंदगी को ख़राब कर देता इसलिए  इससे बचना बहुत ही जरुरी है। तनाव से छुटकारा पाने के लिए  आप योगा, प्राणायाम कर सकते है। सुबह जल्दी उठकर घूम सकते है इससे आपको  रिलैक्स फील होगा। किसी शांत जगह पर बैठकर ध्यान कर सकते है। इससे आपका दिल और दिमाग दोनों शांत हो जायेंगे जिससे  आपका तनाव काफी हद तक काम हो जायेगा। तनाव को कम करने के लिए आप कोई भी अच्छा संगीत सुन सकते है या फिर आप मंदिर, चर्च , मस्जिद में जा सकते है ऐसी जगह पर  आपको शांति मिलती है जिससे तनाव कम करने में आसानी होती है। 

२) अच्छी सेहत के लिए पोषक तत्वों से भरपूर भोजन बहुत ही जरुरी होता है। प्रोटीन्स, विटामिन्स, मिनरल्स युक्त फल सब्जियों का अपने आहार में समावेश करे। अगर आपका आहार स्वस्थ और संतुलित है तो कई बीमारिया आपके आसपास भी नहीं भटकेंगी। स्वस्थ आहार से  दिमाग भी मजबूत बनता है। 

३) शरीर और दिमाग थक जाने पर नींद आने लगती है, अच्छी नींद न मिलने के कारण  आखों पर तनाव आ जाता है। एक अच्छी नींद लेने से आपको थकान और तनाव नहीं होगा जिससे आपकी आखे और पलके फड़कने की समस्या दूर हो जाएगी। 

४) जब भी आखे या पलके फड़के तो आखों पर हल्का गर्म कपड़ा लगाए इससे आखे फड़कने की समस्या कम हो जाएगी। जब भी आप धुप और धूल मिटटी के जगह पर जाओगे तो अपने आखोंको अच्छे सनग्लास से जरूर पहनाये। अगर आपको को सनग्लास खरीदने में परेशानी है तो इस लिंक से आप खरीद सकते हो।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply