आरोग्यवर्धिनी वटी

444

आरोग्यवर्धिनी का मतलब होता है ‘आरोग्य का वर्धन करनेवाली ’ और वटी याने की गोली। इसको आरोग्यवर्धिनी गुटिका, आरोग्यवर्धिनी रस  या सिर्फ आरोग्यवर्धिनी वटी भी कहते है। यह एक रसकल्प औषधी है। सीधी भाषा में कहा जाये तो यह गोली आपके आरोग्य को बढ़ने में मदद करती है इसीलिए इसे आरोग्यवर्धिनी वटी कहते है।यह दीपन पाचन मलशोधन मेदोहर ह्रदय को मजबूत बनानेवाली  जैसे गुणों से भरपूर होती है।

आरोग्यवर्धिनी वटी के फायदे –

लिवर याने की यकृत समन्धित किसी भी समस्या का इलाज करने के लिए आरोग्यवर्धिनी वटी बहुत ही लाभकारी है। जॉन्डिस, लिवर सिर्रोहिसिस(liver cirrhosis), फैटी लिवर, हेपेटाइटिस, लिवर फेलुअर, असायटिस(ACITES)  में आप इस गोली का सेवन कर सकते है। इससे आपका लिवर स्वस्थ रहेगा। ये गोलों लिवर को मजबूत बनाने का काम करती है , इससे लिवर का इफेक्शन भी ठीक होता है।  

शरीर में किसी भी अवयव,  जैसी की किडनी, लिवर, फेफडे(Lungs), हार्ट,  गर्भाशय , मूत्राशय , छोटी आंत , बड़ी आंत में सूजन आती है तो सूजन को कम करने के लिए आप आरोयवर्धिनी वटी का सेवन कर सकते है  इससे आपकी सूजन कम हो जाएगी। इस गोली का नियमित सेवन करने से आपका खून साफ हो जाता है। इसके सेवन से आपके शरीर में वात, पित्त, कफ का संतुलन अच्छी तरह से रहता है।

आरोग्यवर्धिनी वटी के बारे में पूरी जानकारी । Health Tips From Drkalyani

आरोग्यवर्धिनी में पाए जाने वाले घटक –

शुद्ध पारा

शुद्ध  गंधक

अभरक भस्म

लोह भस्म

ताम्र भस्म

शुद्ध शिलाजीत

कुटकी

चित्रक

हरेडा

बेहडा

आवला

निम्ब पत्र स्वरस

ऊपर दिए गए सारे घटक पूरी तरह से नैसर्गिक है। इसका आपके शरीर पे किसी भी प्रकार का साइड इफ़ेक्ट नहीं होता।

आयुर्वेद के अनुसार हमारे पेट में अग्नि होता है वह अग्नि हमारे भोजन को पचाने का काम करता है, जिसकी वजह  से हमे भूक लगती है, कुछ लोगों में अग्नि मंद हो जाता है, जिसके कारण उन्हें भूक नहीं लगती, उन्हें अपचन की समस्या निर्माण होती है। आरोग्यवर्धिनी में मौजूद दीपन पाचन गुण हमारे अग्नि को मजबूत  बनाने का काम करते है। जिससे हमारे भोजन का अच्छी तरह से पाचन होता है और भूक भी अच्छी लगने लगती है। इसलिए भूक बढ़ाने के के लिए आप इस गोली का सेवन कर सकते है।

आरोग्यवर्धिनी वटी पेट के लिए

यह गोली हमारे पेट को अच्छी तरह से साफ करती है। जिसकी वजह से  हमारा पाचनतंत्र स्वस्थ और मजबूत बनता है। कॉन्स्टिपेशंस(Constipation) याने की कब्ज की समस्या का इलाज करने के लिए यह गोली बहुत ही उपयोगी है। इसके साथ ही यह गोली हमारे पेट में मौजूद वर्म्स(Worms) याने की कृमि को भी बाहर निकालने का काम करती है।

मोटापे के कारन लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, वजन को कम करने के लिए, एक्स्ट्रा फैट को कम करने के लिए आरोग्यवर्धी वटी बहुत ही लाभकारी है। ये गोली शरीर की चर्बी को पिघलाने का काम करती है। हमारे शरीर में दो प्रकार के कोलेस्ट्रॉल होते है। एक गुड(Good) कोलेस्ट्रॉल और दूसरा ब्याड(Bad) कोलेस्ट्रॉल, यह औषधि आपके दूसरे वाले यानि की ब्याड कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करती है। और कोलेस्ट्रॉल निकल जाने से आपको ह्रदय संबधी रोगोसे मुक्ति मिलती है।

रोगप्रतिकारक क्षमता

शरीर की रोगप्रतिकारक क्षमता को मजबूत बनाने के लिए बीमारियों से दूर रहने के लिए आप इस गोली का सेवन कर सकते है। शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए ये गोली बहुत ही फायदेमंद होती है। इससे आप बहुत लम्बी उम्रः तक हेल्थी(Healthy) रह सकते है। यह गोली आपकी रोग प्रतिकार शक्ति को बढ़ाने में मदद करेगी। रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ने के कारन किसी भी तरह का वायरल इन्फेक्शन आपको जल्दी बीमार नहीं कर पायेगा।

अगर  आपको किसी भी तरह का बुखार आता है तो बुखार को ठीक करने के लिए आप आरोग्यवर्धिनी वटी का सेवन कर सकते है। ये गोली किसी भी तरह के बुखार को ठीक कर सकती है। क्रोनिक किडनी डिजीज में यह गोली बहुत ही लाभकारी है। त्वचा से संबंधित किसी भी बीमारी का इलाज करने के लिए आप इस गोली का सेवन कर सकते है। अगर आपके चेहरे पर हद से ज्यादा मुहासे है तो आप इस गोली को खाना शुरू कर दो आपको फायदा होगा।

इस गोली के क्वालिटी के मामले में अगर आपको जानकारी नहीं है, तो मैंने बताये हुए इस लिंक से आप आरोग्यवर्धिनी वटी गोली को खरीद सकते हो। लेप्रोसी याने की कुष्टरोग की शुरुवाती की अवस्था में अगर आप इस गोली का सेवन करते है तो इससे कुष्टरोग भी नष्ट हो जाता है।  त्वचा की खुजली लालिमा रयाशेस(Rashesh) में आप इस गोली का सेवन कर सकते है, इससे आपको जरूर फायदा होगा।

आरोग्यवर्धिनी वटी की मात्रा 

२५०मिलीग्राम  या ५००मिलीग्राम की गोली मिलती है, इसको आप ले सकते  है। १ से ४ गोली सुबह श्याम कोष्णजल(हल्का गर्म पानी ), दूध, पुनर्नवा क्वाथ, दशमूल क्वाथ के साथ आप ले सकते है। दोस्तों, लेकिन इस गोली को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लेना।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply

Your email address will not be published.