कथा जो महाबली हनुमानजी ने लिखी।

105

क्या आपको पता है क्या प्रभु श्री राम की कथा सबसे पहले किसने लिखी थी ? तो उसका जवाब है उनके सबसे प्रिय भक्त हनुमानजी, उसके बाद महर्षि वाल्मीकिने लिखी। वाल्मीकि के बारे में कहा जाये तो ओ प्रभु श्रीराम के ही काल के ऋषि थे। उनोने प्रभु श्रीराम के जीवन को काफी नजदीक से देखा था। ऐसा कहते है की यह कथा लिखने में नारदजी ने उनकी मद्त की। प्रभु श्रीराम के काल सतयुग कहते है, उस समय सारे देवताओंका धरती पर आना जाना रहता था। रामायण के बाद बहुत सारे लेखकोंने प्रभु श्रीराम की कथा लिखी, जैसे जैसे वक्त बीतता गया वैसे वैसे इस में भी थोड़ा थोड़ा बदल होते गया। कुछ कथा के भाग तो वाल्मीकि के रामायण में भी नहीं मिलती।

कथा की बाते –

प्रभु श्रीराम का महत्व दक्षिण भारत के लोगोमे काफी ज्यादा प्रभाव है। यहाँ के लोगोने प्रभु के श्रीराम के ऊपर छोटी छोटी कथा भी लिखी। राम ने अपनी सेना आज के कर्नाटक और तमिलनाडु में संघटित किए थे। तमिलनाडु में उनोने रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग की स्थापना किई है। क्या आपने सोचा की, वाल्मीकि और अन्य लोगोके कथा में इतना फर्क क्यों है। तो उसका कारण यह है की वाल्मीकि ने लिखा हुआ रामायण सत्य घटना पे आधारित है, और बाकि लोगोंका लेख सिर्फ सुनने के आधार पर है। जैसे की भगवन बुद्धा ने अपने शिष्योंको सुनायी और उनोने उनके शिष्योंको सुनाई।

रामायण से सिखने के लिए बहुत कुछ है। रामायण लगभग सभी भाषाओंमे अनुवाद करके लोगोंको बताया जाता है। बहुत से लोगोंके यह पता नहीं है की पहले राम थे या भगवन श्री कृष्ण, तो मई आपको बताना चाहती हूँ की पहले राम थे उसके बाद श्री कृष्ण और उसके बाद भगवन बुद्धा थे। जैसे की मैंने आपको बताया रामायण का सारी भाषा में अनुवाद किया गया है, तो अनुवाद करते समय इस कथा में काफी कुछ बदलाव भी हुए है। लेकिन मूल रामायण कथा वैसी की वैसी ही है। आज के समय पर रामायण पर फिल्मे भी बनाई गई है ताकि इस कथा का मूल सार लोगों तक पोचाया जा सके।

क्या आपको पता है वर्तमान में अकुन २८ रामायण प्रचलित है, जो अलग अलग साहित्यकार के लेखन से आगे आया है। लेकिन हमे यह नहीं भूलना चहिये की राम कथा सबसे पहले हनुमान जी ने लिखी थी और ओ भी एक शिला पे लिखी थी जिसका नाम है ‘हनुमन्नाटक’| आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े।

स्तन कैंसर बाकि कैंसर की तरह ही है

Leave A Reply