कहानी सुनने के फायदे

42

दोस्तों, आशा करती हूँ आप सब ठीक हो। क्या आपको अपने बचपन के दिन याद है? क्या आपको वे दिन याद है जब बड़े लोग हमे छोटी छोटी कहानी सुनाते थे? आज जब हम उन दिनोंके बारे में सोचते है तो काफी अच्छा लगता है।

पहले के समय में टेक्नोलॉजी नहीं थी तब बच्चोंको उनके दादा और दादी कहानी सुनाकर उनका मनोरंजन करते थे। बच्चे भी उनकी कहानिया बड़े चाव से सुनते थे। इससे उनका और दादा दादी का नाता भी काफी अच्छा रहता था।

कहानी एक ऐसी चीज है जो बच्चोंको काल्पनिक दुनिया से रूबरू कराती है। कहानी बच्चोंको इसीलिए अच्छी लगती है की वह उन्हें एक जगह पर बिठाकर पूरी दुनिया का सफर करवा सकती है। 

बच्चोंको कहानी सुनाने के फायदे

१) कहानी सुननेसे बच्चोंका शब्दोंका ज्ञान बढ़ता है। अलग अलग चीजोंके नाम उन्हें पता होते है। एक वस्तु के कई सारे नाम की जानकारी उन्हें मिलती है।

२) कहानी का जन्म हमारे पूर्वजोंके दिमाग से होता है, इसीलिए बच्चोंको सांस्कृतिक जीवन का पता लगता है। बच्चे आगे जाके अपनी संस्कृति को आगे बढ़ाते है।

३) कहानी सुनने से बच्चोंका दिमाग अच्छी तरह से काम करने लगता है, इससे उनकी क्रिएटिव क्षमता में बढ़ोतरी होती है। बच्चे कठिन से कठिन चीज आसानीसे कर सकते है। 

४) हमे आज भी बचपन में सुनी कहानी याद रहती है। इससे बच्चोंकी स्मरण शक्ति में बढ़ोतरी होती है।

५) आज के समय में कहानी सुनने से बच्चोंका अपने परिवार के साथ समय बीतना शुरू होता है। इससे वे इंटरनेट से दूर रहते है।

कोनसी कहानी सुनना नहीं चाहिए

कहानी के भी काफी सारे प्रकार होते है। आप कोनसी कहानी सुनते है, इसका आपके सोच पर काफी परिणाम हो सकता है। अगर आप भुत प्रेत की कहानी सुनते हो तो उसका आपके दिमाग पर गहरा असर हो सकता है। छोटी छोटी चीजोंके लिए भी आप डरना शुरू कर देते हो। 

भुत प्रेत की कहानिया आपके दिमाग से आसानीसे नहीं निकलती। ऐसी कहानिया में डर भरा होता है, भुत प्रेत की कहानिया काफी डरावनी होती है। आधात्म के बारे में भी इन कहानियोंमें गलत चीजे बताई जाती है। गलत तंत्र मंत्र से भुत भगाये जाते है, ऐसा दिखाया जाता है।

कुछ कहानिया नेगेटिव होती है, जिसमे हर छोटी छोटी चीजोंमे नेगेटिव बाते बताई जाती है। ऐसी कहानी पढने से आपकी सोच भी उसी तरह की बन जाती है। नेगटिव चीजोंसे आपका कोई भी काम ठीक तरह से नहीं होता है।

कोनसी कहानी सुनना चाहिए

दोस्तों, याद रहे हमेशा अच्छी कहानिया सुनने/पढने की आदत रखे। ऐसी कहानी सुनने से आपका दिमाग हमेशा पॉजिटिव चीजोंके बारे में ही सोचता हैं। कठिन से कठिन काम भी आप आसानीसे कर सकते हो। आपकी सोच अच्छी बन जाती हैं। 

हर कहानी के अंत में कुछ अच्छा मैसेज होता हैं। उन मैसेज को अपने जीवन में उतारने की कोशिश जरूर करे। अच्छी कहानिया सुनने से आपको बुरे और अच्छी चीजोंके बारे में पता चलता हैं। जीवन किस प्रकार जीना चाहिए उसके बारे में पता लगता हैं।

छोटी छोटी कहानिया आपको बडा मैसेज देती हैं। ऐसी कहानिया सिर्फ बच्चोंके लिए ही नहीं बल्कि बडोंके लिए भी काफी फायदेमंद रहती हैं। कहानियोंमें बताई जाने वाली छोटी चीजे बहुत बडा मतलब बताके जाती हैं।

अकबर बीरबल की कहानिया

दोस्तों अगर आप पूछे की अच्छी कहानी कोनसी है तो उसमे अकबर बीरबल की कहानिया आती है। हर बार बीरबल उनके देश में आयी हुयी मुसीबत अपने तेज दिमाग की मदद से हल करता है। कभी कभी अकबर जानबुचकर बीरबल को कठिन समस्या में डालता था और बीरबल अपनी चतुर दिमाग से अच्छेसे उसका जवाब देता था।

इनकी कहानिया में हमे किस प्रकार हर स्थिति में दो तरीकेसे सोचना चहिये उसके बारे में बताती है। इसीलिए इनकी कहानिया जरूर पढ़े और अपने बच्चे और दोस्तपरिवार को भी इनकी कहानियोंके बुक्स दीजिये।

वीरता की कहानी

चतुर बनने के लिए आप बीरबल की कहानी पढ़ सकते हो। लेकिन जीवन में कुछ बढ़ा करने के लिए आपको शूरता से भरी कहानिया पढ़ना चाहिए। हमारे भारत देश को काफी अच्छा इतिहास मिला है। इस पावन धरती पर बहुत सारे शुर वीर पैदा हुए है, जिन्होंने अपने तलवार और तेज तर्रार दिमाग से शत्रु को पराभूत किया है।

ऐसे वीरता से भरी कहानिया पढोगे तो अपने जीवन में कठिन निर्णय लेने से कभी डरोगे नहीं। जिस प्रकार की कहानिया आप पढते हो उसी तरह के आप भविष्य में बन जाते हो। छत्रपति शिवाजी महाराज की माँ उन्हें शुर वीर लोगोंकी कहानिया सुनाती थी, और आगे जाके महाराज ने काफी शूरता से भरे काम किये थे। 

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.