कृष्ण के भजन

36

कभी राम बनके कभी श्याम बनके
चले आना प्रभुजी चले आना |

सीता साथ लेके धनुष्य हात लेके
चले आना प्रभुजी चले आना |

तुम कृष्ण रूप में आना राधा साथ लेके मुरली हात लेके
चले आना प्रभुजी चले आना |

तुम शिव रूप में आना पार्वती साथ लेके डमरू हात लेके
चले आना प्रभुजी चले आना |

बचपन में जब छोटे थे तब ये भजन सुना था , आज इतने साल के बाद भी इसके बोल नहीं भूले है | रामजी का ये भजन जब लोग एक साथ गाने लगते है, तब अपने सारे दुखों को भूल जाते है |

जब जब इस पृथ्वी पर संकट आया तब तब भगवान श्रीकृष्ण ने अलग अलग रूप लेकर इस धरती का संहार होने से बचा लिया | ये देवों की कृपा है जो आज हम इस धरती पर जीवित है |

अगर कृष्ण ने इतने अवतार नहीं लिए होते तो पृथ्वी का नाश तो तय था| जब जब इस धरती पर पाप का साया आया , लोगों के मन दूषित हुए , विचारोंने अपना रास्ता बदल लिया तब तब भगवान को नया रूप लेना पड़ा |

भगवान के रूप चाहे कितने भी हो , उसके नाम चाहे कितने भी हो पर भगवान तो एक ही है | जो हम सब की अंतरात्मा में है | कृष्ण के भजन गाने से , सुनने से भगवान को कुछ फर्क नहीं पड़ता | ये तो हमारी आत्मशान्ति के लिए है |

जब मनुष्य के विचार दूषित होते है मन में पाप आने लगता है | अगर ऐसे वक्त में आप भजन सुनते है, तो आपके विचारों में परिवर्तन होने में वक्त नहीं लगेगा | कुछ लोग नास्तिक होते है, भगवान को नहीं मानते , लेकिन इस दुनिया में सिर्फ भगवान ही है जिसे किसी ने देखा नहीं है फिर भी उसका अस्तित्व मानते है |

एक भगवान ही है जो दिखता नहीं है पर उसपर हम विश्वास रखते है , जिसे पवित्र मानकर उसकी पूजा करते है | उसके गुणगान गाते है | किसी का सिर्फ अस्तित्व मानकर उसपर विश्वास रखना बहुत बड़ी बात होती है | जो लोग श्री कृष्ण के भजन सुनते है उसकी अगाध लीला को समझते है वो कभी नास्तिक नहीं बनते |

जिन लोगों के घर में पूजा पाठ नहीं होता , जिनके घर कभी भजन नहीं होता ऐसे लोगों के ही बच्चे आगे जाकर नास्तिक बनते है | भजन तो एक गीत है जिसे आप कभी भी कही पर भी सुन सकते है | सुबह सुबह घर में भगवान श्री कृष्ण के भजन सुनने से घर का वातावरण प्रसन्न हो जाता है |

घर में अलग तरह की शांति आती है | सुबह सुबह जब घर में भगवान की पूजा होती है, अगरबत्ती की खुशबू नाक में गूंजती है , फूलों का सुगंध चारो और फैल जाता है, दिए की ज्योत जिंदगी में एक नई उम्मीद भर देती है, घंटी का नाद कानों को सुकून देता है और भजन हमारे आत्मा में मौजूद भगवान को जगाता है |

भजन सिर्फ संगीत नहीं है ये तो एक अदभुत शक्ति है जो इंसान को इंसान बनाए रखती है | इस दुनिया में पाप पुण्य कभी किसी ने देखा नहीं है | फिर भी लोग अच्छे कर्म को पुण्य मानते है और बुरे कर्मों को पाप मानते है|

भजन एक ऐसी चीज है जिसे गाने से, सुनने से लोगों के विचारों की शुद्धि हो जाती है | जो लोग भजन गाते है सुनते है वो कभी दूषित कर्म नहीं करते | इसलिए तो पृथ्वी पर शांति है नहीं तो दुष्कर्मों ने अपना चेहरा कब का ऊपर निकाला होता और इस दुनिया का विनाश होता |

आजकल हर किसी चीज के लिए डिग्री की जरूरत पड़ती है, किसी भी चीज को करने के लिए एजुकेशन की जरूरत होती है, पर भजन तो एक ऐसी चीज है जिसके के लिए किसी एजुकेशन या डिग्री की जरूरत नहीं होती |

कोई भी उनपड़ व्यक्ति भजन गा सकता है | भजन के बोल आपको पढ़ने की जरूरत नहीं पड़ती इसे एक बार ही सुनने से वो आपके दिल में बस जाता है | दिमाग में रखी हुई चीजों को लोग भूल जाते है, ईश्वर तो हमारे दिल में है, इसलिए भजन भी दिल तक पहुँच जाता है जिसे भूलना आसान नहीं है|

भजन एक ऐसी चीज है जिससे हर जात, पंथ के लोग एक साथ आते है , कुछ घरों में बूढ़े व्यक्ति के लिए लोगों के पास वक्त नहीं होता, घर का आदमी काम में व्यस्त, घर के बच्चे और माँ मोबाईल में व्यस्त, जिसके कारण घर के बूढ़े लोग अकेले पड़ जाते है |

हां घर में उनके लिए टीवी होता है पर टीवी पर भी कुछ ऐसा नहीं दिखाते जिससे उनके दिल को सुकून मिल जाये | जो चीजे उनकी जिंदगी में हो रही है घर का बूढ़ा व्यक्ति अकेला, उसी तरह टीवी में भी घर का आदमी अकेला या फिर किसी साजिश में व्यस्त |

तो ये सब चीजे उनके मन को पसंद नहीं आती |. ऐसे अकेले बूढ़े लोग जब भगवान श्रीकृष्ण के मंदिर जाकर बैठते है तो श्रीकृष्ण का प्रसन्न चेहरा देखकर उनका मन प्रफुल्लित हो जाता है | वहां पर जब भजन शुरू होता है लोग अपने अकेलेपन को भूल जाते है |

जब लोग श्रीकृष्ण का भजन गाने लगते है तो उन्हें लगता है श्रीकृष्ण अलग अलग रूपों में उनके साथ ही है | भजन में लोगों को कई दोस्त मिलते है, जिनके साथ उन्हें बाते करने का मौका मिलता है | इस तरह से भजन लोगों के अकेलेपन को दूर करने में बहुत बड़ी सहायता करता है |

भजन में तबला, पेटी, बासरी जैसे अलग अलग वाद्य बजाये जाते है | पेटी के सप्त सूर, टाल की आवाज जब कानों में गूंजती है तो लोग अपनी सारी तकलीफों को भूल जाते है | तबले की आवाज लोगों के मन को आनंदीत करती है |

तबला वादक जिस जोश से तबले को बजाता है उसे देखकर बूढ़े लोगों के जिंदगी में जीने का जोश आता है | भजन उन लोगों का सहारा है, जो जिंदगी से हार गए है, जीने लगता है अब किसके लिए जिए ? तो ऐसे लोगों को श्रीकृष्ण को देखकर जीने की नई उम्मीद आती है |

श्रीकृष्ण के भजन सुनकर उन्हें समझ आता है ये जिंदगी तो हमारे सुखों के लिए है ही नहीं | श्रीकृष्ण का भजन उन्हें समजाता है जिंदगी का असली मतलब तो लोगों के काम आना है और यही ईश्वरपूजा है | श्रीकृण को नहीं चाहिए की आप सिर्फ उनके गुणगान गाते रहो उनकी पूजा करते बैठो |.वो चाहते है की आप उनके भजन से जीने का असली मकसद समझे और लोगों को भी समझाए |
.
भजन गाना, सुनना आरोग्य के लिए भी बहुत ही हितकारक है | भजन को एक ताल सूर और लय में गाया जाता है, भजन की वाणी जब हमारे कानों पर पड़ती है तो वो सीधा हमारे दिल तक पहुँचती है, जिससे हमारे हृदय पर जो भी तनाव है वो कम हो जाता है |

दिल पर तनाव बढ़ने के कारण लोगों को हार्ट अटैक आता है, जिसमे लोग अपनी जान खो देते है | इसलिए दिल के ऊपर के तनाव को कम करने के लिए हर रोज भजन सुने | नियमित रूप से भजन गाने से, सुनने से लोगों के जिंदगी में कई तरह के परिवर्तन आते है |

भजन सुनने से लोगों का मन शांत हो जाता है | सुबह सुबह जिस भजन को सुनते है उसी के बोल दिनभर हमारे मुँह में रहते है | जिससे हमारी वाणी से कोई अशब्द ( गलत लब्ज ) जाने की आशंका कम हो जाती है | भजन में जब लोग तालिया बजाते है, तो अपने आप तालियों का सूर एक हो जाता है |

तालिया बजाने से हमारे हाथ के प्रेशर पॉइंट दब जाते है जिससे हमारे शरीर के अलग अलग हिस्सों को बहुत फायदा होता है | तालिया बजाने से हाथों का व्यायाम हो जाता है, जिससे स्वस्थ रहने में सहायता मिलती है | भजन सुनने से लोग तनाव को भूल जाते है |

ज्यादा तनाव लेने से ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है | अपने ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने के लिए आप नियमित रूप से भजन सुन सकते है . इससे आपके बीपी की दवाईया भी कम हो जाएगी | भगवान श्री कृष्ण के भजन सुनने से लोग उसकी तरफ आकर्षित हो जाते है जिससे उनकी जिंदगी में कई परिवर्तन होते है |

भगवान श्रीकृष्ण का भजन जब लोग बार बार सुनते है, तो लोग उसके आदर्शों को भी समझने की कोशिश करते है | श्रीकृष्ण एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने कभी अपने परायों में फर्क नहीं किया उन्होंने हमेशा सच का साथ दिया किसी पर अन्याय नहीं होने दिया | वो कभी झूठ नहीं बोले |

जब हम श्री कृष्ण के भजन को गाएंगे सुनेंगे तभी उसकी अगाध लीला को समज पाएंगे | जब हम एक ही तरह के विचार बार बार सुंनते है तब उसकी तरफ आकर्षित हो जाते है | जो लोग हमेशा हत्या, विनाश की बाते सुंनते है, वो अपनी जिंदगी में किसी भी तरह के दुष्ट कर्म करने के लिए प्रेरित हो जाते है |

इसलिए अपनी जिंदगी में बुरे कर्मों से बचने के लिए हमेशा भजन सुने | इससे आपकी जिंदगी में कई तरह के बदलाव आ जायेंगे | भगवान के द्वार तो सबके लिए खुले है | भले ही किसी ने अपनी जिंदगी में कई पाप किये होंगे | अगर वो भगवान के शरण में आता है तो अपनी जिंदगी को जरूर बदल सकता है | श्रीकृष्ण का भजन आपके विचारों की शुद्धि करेगा | जिससे आप खुद को माफ़ करके अपनी जिंदगी को एक नया रूप देंगे |

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.