खांसी के घरेलू उपाय

21

दोस्तो खांसी एक इरिटेटिंग और बड़ी ही दर्दनाक बीमारी है | ये एक ऐसी समस्या है जो कभी भी किसी को भी हो सकती है। यह एक ऐसी बीमारी है जो रात के समय में बढ़ जाती है, जिसके कारण सोने में काफी तख़लीफ़ होती है | 

जब भी मौसम में जरा सा बदलाव आता है तो सबसे पहले उसका असर हमारे शरीर पर होता है | मौसम बदलने पर सर्दी खांसी जैसी बीमारियां हमें जकड़ लेती हैं।

सर्दी होने से हमारा नाक गला सभी बंद हो जाते हैं और हमें सांस लेने में कठिनाई होती है। कई बार सर्दी तो ठीक हो जाती है लेकिन खांसी लंबे समय तक हमें तंग करती है। सूखी खांसी क्या होती है? आज हम इसके बारे में जानेंगे और इसके कारणों के बारे में जानेंगे।

सूखी खांसी

खांसी दो प्रकार की होती है सूखी खांसी और बलगम वाली खांसी | सूखी खांसी से किसी तरह का थूक या बलगम नहीं निकलता। इस प्रकार की खांसी नाक या गले के विषाणु जनित संक्रमण के दौरान होती है। सूखी खांसी से यह अहसास होता है कि जैसे हमारे गले में कुछ अटक गया हो और खांसने के बावजूद भी नहीं निकल रहा हो। इसी को हम सूखी खांसी बोलते हैं।

सूखी खांसी कई कारणों से हो सकती है। सही कारण को पहचानने से सही इलाज करना आसान हो जाता है। नाक और गले की एलर्जी होने के कारण आपको सूखी खांसी हो सकती है। आपको अगर अस्थमा या टीबी जैसे सांस की बीमारियां हैं तो ये भी एक वजह आपकी सूखी खांसी की बन सकती है। 

अगर आपको सर्दी फ्लू या किसी प्रकार का बर्न इन्फेक्शन हो जाए, तो ये एक बड़ा कारण सूखी खांसी का बन सकता है | यदि किसी व्यक्ति को फेफड़ों का कैंसर है, तो उसे सूखी खांसी होती रहती है। हाई ब्लडप्रेशर के इलाज के लिए खाई गई दवाएं खाने से भी सूखी खांसी की शिकायत हो सकती है। नाक जब ज्यादा बलगम बनाती है तो वो बलगम गले में चला जाता है जो खांसी होने की वजह बनता है।

सूखी खांसी का बढ़ियां घरेलू उपचार

१) शहद

शहद हमारे जीवन का एक अविभाज्य घटक है | आयुर्वेद में शहद का काफी ज्यादा महत्व गया है | बार बार खासी होने के कारन गले में खराश होती है उसको शहद दूर करता है | खराश के साथ साथ गले का इन्फेक्शन भी दूर करने का काम शहद करता है | दो चम्मच शहद को आधा गिलास गुनगुने पानी में अच्छे से मिलाकर इसका रोजाना सेवन कीजिये इससे आपकी सुखी खासी दूर होगी | 

शहद का पानी पिने के बाद आपको नमक के पानी से गरारा करना होगा जिससे सुखी खासी तेजीसे ठीक हो जाएगी |

२) पीपल की गांठ

यह आपकी खांसी के लिए एक बेहद कारगर घरेलू नुस्खा है | पीपल की गांठ हमे कहि पर भी आसानीसे मिल सकती है | इस गांठ को लेना है फिरअच्छे से धोकर इसे साफ करे | अब पीपली की गांठ को पीसकर इसका पेस्ट बनालो | रोजाना थोड़ा थोड़ा पेस्ट एक चम्मच शहद के साथ खाने से आपको राहत मिलेगी | यह घरेलू नुस्खा किफायती और परिणामकारक भी है |

३) अदरक और नमक

 अदरक की तासीर गर्म होती है | एक अदरक के टुकड़े को अच्छेसे पीसकर लेलो | इसमें एक चुटकी नमक मिलाकर मुँह में दाढ़ के नजदीक ५ मिनिटो के लिए रखलो | जो रस इससे तयार होगा उसे गले से धीरे धीरे निचे उतरने दो | इससे आपकी खासी जल्दी ठीक हो जाएगी | 

५ मिनट के बाद इसे बाहर नकालो और साफ पानी से कुल्ला करो | बाजार में अदरक की बर्फी भी मिल जाती है जिसे हम “आलेपाक” के नाम से जानते है | इस आलेपाक का सेवन भी आपकी सूखी खासी को दूर भगाएगा |

) मुलेठी की चाय

मुलेठी एक आयुर्वेदिक जड़ीबूटी है | इसकी जड़ से आप चाय बनाकर पिओगे तो खासी में आराम मिलेगा | यह एक कारगर घरेलु नुस्खा है | अगर आपको इसकी चाय पसंद नहीं है तो आप मुलेठी की एक जड़ को अच्छे से पानी में उबालो | फिर उबले हुए पानी की भाप नाकसे शरीर में लेने से फायदा होगा |

५) हल्दी का दूध

इस उपाय को भारत में हम कई सारी बीमारीओमे इस्तेमाल किया जाता है | लगभग हर दूसरे घर में माँ अपने परिवार के सदस्यों को इस उपाय से बीमारी में राहत देती है | सूखी खांसी होने पर आप हल्दी का दूध पी सकते है |

) काली मिर्च और शहद

दो से तीन काली मिर्च लेलो उसको पीसकर चूर्ण बनालो | इस चूर्ण का एक चम्मच शहद के साथ सेवन करलो | इससे आपको आराम मिलेगा | 

सूखी खांसी की अंग्रेजी दवा

सुखी खासी में कफ नहीं होता | कफ ना होने के कारण गले इन्फेक्शन के चान्सेस ज्यादा रहते है | cough suppressant यह एक बेहतरीन अंग्रेजी दवा है | लेकिन इस दवा का इस्तेमाल आपको डॉक्टर की सलाह से ही लेना चाहिए | कुछ डॉक्टर throat lozenges लेने की सलाह अपने मरीजोंको देते है | 

बलगम वाली खांसी

आम तोर पर बलगम वाली खासी सर्दी के मौसम होती है | और जिन लोगोंको सर्दी होती है उन्ही लोगोंको बलगम वाली खासी भी होती है | बलगम वाली खासी ज्यादा दिनोंतक नहीं रहती लेकिन कुछ केसेस में यह काफी दिनोतक भी रह सकती है | 

सर्दी के मौसम में बलगम बनता रहता है | इस बलगम को अगर समय समय पर नाक से नहीं निकाला तो यह गले से होकर फेफड़ो में चला जाता है | फिर ह्रदय के कार्य में दबाव बढ़ने के कारन हमारा शरीर इस बलगम को बाहर फेकने की कोशिश करता है | परिणाम के रूप में हमे बलगम वाली खासी आती है |

बलगम वाली खांसी के घरेलू उपाय

१) विटामिन सी

शरीर की इम्युनि सिस्टम बढाने के लिए विटामिन सी काम करता है | इम्युनि सिस्टम बढ़ने के कारण हमारा शरीर वायरल इन्फेक्शन से बचने के लिए तैयार होता है | संतरा, निम्बू विटामिन सी के सबसे बढ़िया स्त्रोत है | बलगम वाली खासी से दूर रहने के लिए यह एक अच्छा घरेलु उपाय है |

२) जल निति

जल निति कैसे करते है इसके बारे में आपको वीडियो को जरिये पता चलेगा | यह एक बेहतरीन उपाय है, जो बलगम वाली खासी, सर्दी जैसे बीमारी में उपयोग किया जाता है | इसके के लिए आपको गुनगुना पानी इस्तेमाल करना होता है | यह उपाय करने से गले की खराश भी दूर होती है | 

) अदरक की चाय 

अदरक एक आयुर्वेदिक औषधि है | इसमें एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण बलगम वाली खासी में उपयोगी है | दिन में कम से कम दो कप तो आपको पीना ही होगा | 

४) भाप लेना

पानी गर्मं करके उसकी भाप लेने से नाक से साँस लेने वाला रास्ता खुल जाता है | गर्म भाप फेफडोंमे जाने से उसमे स्तिथ बलगम पिघल जाता है और खांसने पर शरीर से बाहर आता है |

५) लोंग की चाय

यह चाय आम चाय की तरह ही बनाना होता है | बस चायपत्ती डालते वक्त उसके साथ आपको एक दो लोंग उसमे डालना होता है | इससे आपकी चाय थोड़ी तीखी बन जाती है, लेकिन यह चाय आपके बलगम वाली खासी को दूर करने का काम करता है | 

कफ वाली खांसी की दवा

कफ वाली खांसी में आपको ब्रोंकोडिल और ब्रोंकोरेक्स सिरप दिया जाता है | इसके साथ में ही आपको इन्हेलर भी दिया जाता है | डॉक्टर सबसे पहले अस्थमा और एसिडिटी का चेकउप करते है और उसके बाद ही आपको दवाई देते है | आप बिना डॉक्टर के मदद से कोई भी दवा का सेवन न करे | 

बच्चों की खांसी के घरेलू उपाय

दरसल बड़े लोगोंकी की तरह छोटे बच्चोंमें खासी होना कोई आम बात नहीं है | छोटे बच्चोंकी इम्मुनि सिस्टम काफी वीक होती है | और खांसी, जुकाम से ठीक होने में उन्हें वक्त लग सकता है | ऐसे में अगर खासी का कारण कोई वाइरस है तो पता लगने में दिक्कत आ सकती है |

बच्चों की खांसी के असरदार उपाय इस प्रकार है |

) गरारा करना

यह सबसे आसान तरीका है जिसमे पहले स्टेज पे आप अपने बच्चे की खासी दूर कर सकते हो | गुनगुने पानी में आधा चम्मच नमक मिलाकर इससे बच्चे को गरारा करने के लिए देदो | शुरुवाती खासी में आपके बच्चे को इससे राहत मिलेगी |

२) शहद

हमने आपको ऊपर भी बताया है की शहद काफी असरदार औषधि है | आयुर्वेद में इसका बेहद महत्व है | बच्चे को गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर देने से उसकी खासी दूर हो जाएगी | पानी पिने के बाद आप एक चम्मच शहद उसको खाने के लिए भी दे सकते हो |

३) अदरक

अदरक का इस्तेमाल बड़े लोग चाय के साथ कर सकते है | लेकिन कुछ बच्चोंको चाय पसंद नही आती तो ऐसे समय में आप उसको अदरक का पेस्ट शहद में मिलाकर दे सकते हो | या फिर जैसे की हमने ऊपर बात की आलेपाक के बारे में | वह आलेपाक शक़्कर और अदरक से बना होता है | इसको आप बच्चे को खाने के लिए दे सकते हो | 

४) सेब का सिरका

सेब के सिरके से रोगप्रतिकार शक्ति को बढ़ने में मदद मिलती है | इससे गले की खराश भी दूर होती है | स्वाद में सेब का सिरका मीठा होने के कारण बच्चोंको यह पसंद भी आता है | खांसी का यह बेहद अच्छा घरेलु उपाय है | 

५) निम्बू

निम्बू में विटामिन सी पाया जाता है | विटामिन सी आपकी इम्युनु सिस्टम को बढ़ाने का काम करता है | निम्बू को पानी के साथ पिलाने से खासी में आराम मिलेगा | पुराने जमाने में लोग निम्बू रस को शहद में मिलाकर खासी पर इसका सिरप के जैसा प्रयोग करते थे | यह उपाय भी बेहद गुणकारी साबित होता है |

६) भाप लेना

बलगम वाली खांसी में भाप देने से उनको बेहद फायदा हो जाएगा | भाप लेने से हमने जैसे कि ऊपर बात की हमारा बलगम पिघल जाता है | आपको एक पतेले में भाप लेने के लिए पानी लेना होगा उसको 100 डिग्री तक गर्म करके उसमें से भाप निकलने का इंतजार करना होगा | इसके बाद बच्चे को आप एक कपड़े के जरिए उस पतेले पर थोड़ी दुरी बनाकर सिर रखने के लिए बोले | और जो भी उससे भाप निकलती है उसको नाक के जरिए अंदर लेने के लिए कहे इससे बाप गले की मार्ग से फेफड़ों में जाकर बलगम को पिघलने में मदद करेगा।

 ७) चिकन सुप 

चिकन सुप से बच्चोंको प्रोटीन की काफी अच्छी मात्रा मिल सकती है | इससे खासी ठीक होने में मदद होगी | गर्म सुप पिने से गले में आराम मिलता है | 

८) दूध और हल्दी

दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर बच्चोको देने से खासी की समस्या में राहत मिलती है | हल्दी का नियमित सेवन आपको गले के रोगोंसे मुक्ति मिल सकती है | अगर बच्चोंको आप हल्दी वाला दूध रात को सोने से पहले देते हो तो यह ज्यादा असरदार होगा | 

९ ) मेथी और निम्बू का रस 

दस कप पानी में एक चम्मच मेथी और दो चम्मच निम्बू का रस डालके हर दिन बच्चोंको एक एक कप देने से बच्चो की खांसी दूर होती है | 

१०) सौंफ

सौंफ बलगम को पतला करने का काम करता है | इसका आप सिरप बनाकर बच्चोंको दे सकते है | सिरप बनाने के लिए एक पतेले में एक कप पानी लेलो | उसमे एक चम्मच सौंफ डालकर १५ मिनट तक उबाले | दिन में दो वक्त एक एक चम्मच आप बच्चे को देदो | इससे आपके बच्चे को आराम मिलेगा | 

खांसी की दवाई बताओ / खांसी की दवा बताइए

खासी की हर उपचार पद्धति में अलग अलग दवाई दी जाती है |

आयुर्वेदिक उपचार

शहद

नमक का पानी

मुलेठी

सेब का सिरका

अदरक

हल्दी

जलनीति

अलोपथी उपचार

Mucinex

benzonatate

Benadryl

Tussionex Pennkinetic

होम्योपैथी उपचार

Aconitum Napellus

Belladonna

Bryonia Alba

Chamomilla

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार / खांसी के घरेलू उपाय हिंदी

सर्दी जुकाम के बारे में हम किसी और ब्लॉग में बात करेंगे और बात करे खांसी के घरेलु उपाय हिंदी में | तो इसके बारे में इस ब्लॉग में हमने सारी जानकारी पूरी कर लियी है | और भी खांसी के बारे में जानकारी के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल को भेट दे सकते हो | 

अगर खासी ज्यादा दिनोतक है तो सिर्फ घरेलु उपाय पर निर्भर मत रहना | अपने फॅमिली डॉक्टर से चेक उप 

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.