खेल खेलने के फायदे।

188

दोस्तों तो कैसे हो आप, आज हम बात करेंगे खेल के बारे में, इसमें हम सभी चीजोंकों ध्यान से देखेंगे। खेल क्या होता है ? सीधी बात में देखा जाये तो यह एक प्रकार का मनोरंजन होता है जिसमे हम शारीरिक और मानसिक तोर पर भाग लेते है। कई मामलोंमें यह हमारे दिमाग और शरीर की काफी परीक्षा लेता है, और किसी भी प्रकार के खेल में अगर हम स्पर्धा का आयोजन करते है तो हमे उसे जितने के लिए उत्साह पैदा होता है, और इसी वजह से हम उस में हमारा सबसे अच्छा कार्य प्रदान करते है।  

खेल के प्रकार –

अगर बात करे इसके प्रकार की तो खेल के प्रमुख दो प्रकार होते है। इनडोर गेम जो चार दीवार के अंदर खेला जाता है और आउटडोर गेम जिसे खेलने के लिए विशिष्ट प्रकार के मैदान की आवशक्यता होती है। इनडोर खेल खेलने से दिमाग का विकास ज्यादा होता हैं वही आउटडोर खेल खेलने से शरीर का विकास ज्यादा होता है। वैसे तो हर खेल के अपने अपने बहुत ऐसे फायदे है।

यहा पर हमें एक बात याद रखनी चाहिए, आज के समय में हम इनडोर खेल पे ज्यादा जोर देते है। अगर हम पुराने समय से आज के समय को तुलना करे तो उस वक्त के कुछ खेल समय के साथ लुप्त हो जा रहे है। बात करे क्रिकेट और फुटबॉल जैसे गेम की तो वो भी बच्चे मैदान में जाकर खेलने के बजह कंप्यूटर पे खेलना पसंद करते है |

खेल के परिणाम –

उससे क्या होता है, बच्चे दिमाग को तो अच्छे तरह से विकसित कर लेते है लेकिन शरीर पर बुरा असर होता है। आखिर में जान है तो  जहां है। मोबाइल फ़ोन आने के बाद तो हमारे समाज का पूरा चित्र ही बदल गया है। बाहर खेलना तो दूर लोगोंका घूमना भी कम हो चूका है। मुझे आज भी याद है जब में और मेरे दोस्त कब्बडी, गिल्ली डंडा, सुतोलिया आदि खेलोंका बड़ा मजा उठाते थे। और इस तरह के खेल खेलने से आज भी हम सारे दोस्त एकदूसरे से काफी अच्छी तरह से जुड़े है हमारी दोस्ती मजबूत बनाने में ऐसे खेल ही तो काम आते है।

में देखती हूँ, आज के बच्चे ५ – ५ घंटे टेक्नोलॉजी के साथ खेलते है फिर भी उनको न तो खाना ठीक से हजम होता है न ही वो अच्छी नींद ले पाते है। अगर हमारे बच्चे सिर्फ २ घंटे ही मैदानी खेल खेलेंगे तो उनको बहुत अच्छी सी नींद आएगी। और आज की कमसे कम ५०% समस्याएं तो सिर्फ खेलने से दूर हो जाएँगी। और सिर्फ बच्चे ही नहीं सभी लोगोंको हर रोज २ घंटे मैदान पे जरूर बिताने चाहिए। उससे हमारा रक्त संचार जिसे अंग्रेजी में शरीर का ब्लड सर्कुलेशन कहते है वो ठीक रहेगा। खाना ठीक से पचेगा, खेलने से शरीर से पसीना निकलेगा तो त्वचा सुन्दर दिखेगी। शरीर की रोगप्रतिकार शक्ति बढ़ेगी। जब हम मैदानी खेल को मिलकर खेलते है तब संघ की भावना बढ़ती है, हम हार-जित की भावना से रूबरू हो जाते है।

सावधानी –

ध्यान रखे अगर आप स्विमिंग सीखना चाहते हो तो कभीभी अकेले नहीं जाना हमेशा साथ में कोई जानकार आदमी चाहिए। अगर कोई ऐसा खेल है जिसमे कई सारे खतरे हो सकते है तो ट्रेनर की सलाह जरूर लेना। बीमार होने पर ना खेले तो बेहतर होगा। खेलते समय कोई घाव होगा तो उसे अच्छी तरह धो लेना उसके बाद मलम लगाकर बैंडेज कर देना। अगर कोई टीम के साथ खेल रहे हो तो मैदान की बुरी बाते मैदानं में ही छोड़ देना उसे वैयक्तिक रूपसे जीवन पर हावी होने मत देना।

प्रमुख खेल –

हॉकी –

यह एक ऐसा गेम है जिसमे ज्यादा भागदौड़ करना पड़ता है। भारत का यह राष्ट्रीय खेल है, इस खेल का जनम भी भारत से ही हुआ है।
इस खेल को खेलने के लिए आपको हॉकी स्टिक, बॉल और गोल पोस्ट की जरूरत होती है। इस खेल को खेलने के लिए ११ खिलाडी की जरूरत होती है।

फुटबॉल –

इस को हम सॉकर के नाम से भी जानते है। यह दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल माना जाता है। अगर बात करे भारत की तो पूर्व और दक्षिण भारत में इस गेम को ज्यादा पसंद किया जाता है। इस खेल में खिलाडी अपने पैर का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करता है जैसे की, बॉल को किक मारना, दौड़ना, शरीर को बैलेंस करना।

क्रिकेट –

अब इस गेम के बारे में क्या बताये यह भारत का सबसे लोकप्रिय खेल है। ज्यादा तर उत्तरी और पश्चिम भारत में इसे खेला जाता है। यह गेम काफी रोमांच से भरा होता है, मै खुद भी इस गेम की चाहती हूँ। इस गेम के कुछ प्रकार है जैसे की टेस्ट, वन डे और T20 । यह खेल गेंद और बल्ले से खेला जाता है।

टेनिस –

इसे २ या फिर ४ लोगो में खेला जाता है। ऐसा माना जाता है की टेनिस की शुरुआत फ्रांस इस देश में हुयी थी। टेनिस में एक गेंद का इस्तेमाल करते है उसे टेनिस बॉल कहते है। आपने कई बार इस गेंद को देखा होगा, हमारे यहां बच्चे इस गेंद से क्रिकेट खेलते है। उस बॉल को मारने के लिए रैकेट का इस्तेमाल होता है।

गोल्फ –

यह खेल के लिए मैदान काफी बड़ा लगता है। ऐसा कहा जाता है की गोल्फ अमीरों का खेल है, उसका कारण है की इस खेल को खेलने के लिए लगने वाली गोल्फ स्टिक और बॉल महंगे होते है। सन १९२० में यह खेल अमेरिका में काफी लोकप्रिय हुआ था।

हमारे यूट्यूब चैनल आयुर्वेदा को सब्सक्राइब करना न भूलना उस चैनल पे में आरोग्य के बारे में बेहतरीन ऐसी टिप्स देती रहती हूँ।आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.