गर्भावस्था में बालों को गिरने से रोकने के उपाय

21

गर्भावस्था में दूध और दूध से बनी चीजें, दही का सेवन करना चाहिए। दूध में प्रोटीन पाउडर मिलाकर भी आप इसका सेवन कर सकते हैं | दिन में दो बार इसका सेवन करने से आपको जरूर फायदा होगा। इससे आपके बालों को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं। जिससे बालों का झड़ना कम हो जाता है।

गर्भावस्था में आपके शरीर को और बालों को विटामिंस मिनरल्स जैसे पोषक तत्वों की जरूरत होती है। इसके लिए आपको हरी पत्तेदार सब्जियां, सीजनल फ्रूट लेने चाहिए। तनाव चिंता महिला के स्वास्थ्य को खराब कर देते हैं। ज्यादा तनाव में रहने के कारण गर्भावस्था के दौरान बाल ज्यादा मात्रा में झड़ने लगते हैं। इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान मन शांत रखें | इसके लिए आप ध्यान और प्राणायम भी कर सकते हैं।

आंवला विटामिन सी से समृद्ध है। यह पोषक तत्व बाल बढ़ाने में मदद करते हैं साथ ही बालों में चमक दिलाते हैं | विटामिन सी लोहे के अवशोषण में मदद करता है। जिससे आपके बालों की जड़ें मजबूत और स्वस्थ होती है। गर्भावस्था में नियमित रूप से आंवला खाने से और बालों को आंवला पाउडर लगाने से बालों में चमक आती है। आवला पावडर बल झड़ने से भी रोकता है।

गर्भावस्था के दौरान मुलेठी बालों में लगाने से बालों की जड़ें मजबूत होती है और बालों में रूसी भी नहीं होती | मुलेठी बालों को स्वस्थ रखती है और बालों को झड़ने से रोकती है | बालों को मजबूत बनाने के लिए आपको हर रोज कम से कम दो अंडे का सेवन करना चाहिए।

गर्भावस्था में क्या करे और क्या न करे

गर्भावस्था के तीसरे महीने तक महिला पीठ के बल सो सकती है, पर 3 से 9 महीने में पेट के बल सोना ठीक नहीं है। इस समय पीठ के बल सोने के बजाय दाईं तरफ सोना थोड़ा बेहतर होता है। पर बाई तरफ सोना सबसे अच्छा है। प्रेगनेंसी में लंबी दूरी का प्रवास नहीं करना चाहिए फिर चाहे वह बस या ट्रेन का हो घर से बाहर जाते वक्त अपने साथ पानी की बोतल को हमेशा रखना चाहिए।

गर्भावस्था में काला अंगूर पपीता नहीं खाना चाहिए। सेब, केला, तरबूज, मौसमी, कीवी, अमरुद, एवोकाडो, लीची जैसे फलों का सेवन करना चाहिए।

गर्भ ठहर जाने के बाद का हर पल नाजुक होता है। इसलिए समय-समय पर डॉक्टर से मिलकर महिला को चेकअप करवाना चाहिए। गर्भावस्था में किसी भी तरह का भारी वजन नहीं उठाना चाहिए।

गर्भावस्था में खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, मिनरल्स ,फाइबर से युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए। प्रेगनेंसी में लंबे समय तक भूखा नहीं रहना चाहिए।

गर्भधारणा के बाद अगर ब्लीडिंग हो तो अनदेखा ना करें क्योंकि यह गर्भपात के लक्षण भी हो सकते हैं। ज्यादा मसाले, तला हुआ भोजन, फास्ट फूड जैसी चीजों से दूर रहना चाहिए। गर्भावस्था में कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

अगर आपको बार बार पेट दर्द की शिकायत होती है तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें गर्भावस्था में पैदल चलना बहुत ही जरूरी है। गर्भावस्था में अच्छी-अच्छी किताबें जरूर पढ़ें | तनाव और चिंता से दूर रहे यह आपके बच्चे पर बुरा असर डाल सकते हैं

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply