घबराहट क्या है?

112

घबराहट का अर्थ है किसी बात के होने या होने की सम्भावना को लेकर डरा हुआ और परेशान महसूस करना। एक घबराया हुआ व्यक्ति तनाव में रहता है और आसानी से चिंतित हो जाता है। कुछ लोगों को घबराहट इतनी हो जाती है कि वह ठीक तरह से सोचने, समझने और काम करने की हालत में नहीं रहते, जबकि उस परिस्थिति में समझदारी और सूझ-बूझ से काम लेने की आवश्यकता होती है। हम सभी लोगों को कभी न कभी घबराहट होती है लेकिन कुछ लोग हमेशा ही घबराए हुए रहते हैं। इस स्थिति में व्यक्ति आराम नहीं कर पाता है और उसका दिल समान्य से तेज़ गति से धड़कता है। इससे आपके काम, रिश्तों और नींद पर प्रभाव पड़ता है।

घबराहट में हर व्यक्ति अलग प्रकार की शारीरिक प्रतिक्रिया करता है।

घबराहट के शारीरिक लक्षण जानते हैं 

  1. पेट खराब और जी मिचलाना (मतली)
  2. दिल की धड़कन तेज होना
  3. मुंह की बदबू
  4. झटके लगना,
  5. ऐंठन या कांपना
  6. मुंह सूखना
  7. हाथों में पसीना आना
  8. सांस फूलना
  9. अचानक ठण्ड या गर्मी लगना  
  10. ध्यान केंद्रित करने में परेशानी
  11. मांसपेशियों में तनाव महसूस होना
  12. बेचैन या परेशान महसूस करना
  13. चक्कर आना

अब जानते है की घबराट होने पर उपाय क्या है।

घबराहट मेहसूस होने पर धीरे-धीरे सांस लेने का प्रयास करें क्योंकि इससे आपको शांति व घबराहट में कमी महसूस होगी। अपने डॉक्टर से बात करें क्योंकि थेरेपी से सोच को नियंत्रित करने में बहुत मदद मिलती है। अपना ध्यान भटकाएं क्योंकि इससे नकारात्मक भावनाओं को कम करने में मदद मिलती है। ध्यान भटकाने के लिए आप टीवी देख सकते हैं, कुछ खेल सकते हैं, खाना बना सकते हैं या सफाई कर सकते हैं।

आराम देने वाले काम करें, जैसे – किताब पढ़ना, नहाना या खुशबू वाली मोमबत्तियां जलाना। शारीरिक रूप से सक्रिय रहें। एक नियम बनाए रखें ताकि आप शारीरिक रूप से सक्रिय रहें। व्यायाम इसके लिए एक अच्छा विकल्प है। सिगरेट पीना छोड़ें और कैफीन का सेवन कम करें क्योंकि निकोटिन और कैफीन दोनों से ही घबराहट के लक्षण बढ़ सकते हैं। स्वस्थ भोजन का सेवन करें। साजियां, फल, साबुत अनाज और मछली खाने से चिंता कम होती है।

घबराहट के प्रकार

सामाजिक घबराहट

LKK सिस्टम यानि की ‘ लोग क्या कहेंगे ‘।  सामाजिक घबराहट का सबसे प्रमुख कारन यह LKK सिस्टम है, लगभग हर दूसरा मनुष्य इस चिंता के बारे में सोचता है। लोग तो कहेंगे ही, अगर आपने कुछ किया तो भी और कुछ नहीं किया तो भी इसीलिए इस प्रकार की घबराहट से दूर रहने की कोशिस करे। इसके लिए आपको मोटिवेशनल वीडियो देखना काफी फायदेमंद रहेगा। खुद पे भरोसा रखने के लिए जब भी आप कुछ अच्छा काम करोगे तो खुदको रिवॉर्ड देने की आदत लगाओ।

शरीर का रूप

हमारे आस पास बहुत सारे लोग है, जिनको अद्भुत ऐसी कला और बहुत सारा ज्ञान है। लेकिन कुदरत से मिले हुए शरीर में कुछ कमिया रहती है जैसे की काला रंग, मोटापा, जीभ हकलाना और कुछ विकलांगता आदि। इसके वजहसे उन लोगोंका शरीर घबराहट का कारन बन जाता है। एक बात यद् रखना बेहद जरूरी है, इस धरती पर कोई जिव परिपूर्ण नहीं है अगर कोई यह मानता है की वह परिपूर्ण है तो उसका सोचने का दायरा अपूर्ण है।

JED जनरलायजड़ एनझायटी डिसऑर्डर

मेडिकल भाषा में इसे JED के नाम से जाना जाता है। इस घबराहट में मरीज हर चीजों में उल्टा सोचने का प्रयास करता रहता है। किसी भी चीज को नेगेटिव नजर से देखता है और उसके कारन खुद के मन में घबराहट पैदा कर लेता है। इससे बाहर आने के लिए सोच पे कंट्रोल होना बेहद आवश्यक होता है। मैडिटेशन इसके लिए प्रमुख उपाय है।

ओबेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर

घबराहट का सबसे खतरनाक कारन कोई है तो यह है, क्योंकि इस प्रकार के घबराहट को दूसरा व्यक्ति बुल्कुल पहचान नहीं सकता और मरीज भी धीरे धीरे इस घबराहट का शिकार बनता जाता है। इस प्रकार में मनुष्य छोटी छोटी चीजोंका हद से ज्यादा सोचना शुरू करता है। चीजोंकी सफाई करते वक्त बार बार एक ही चीज साफ करना, शॉपिंग करते वक्त पैसोंके बारे में बेहद ज्यादा सोचना इस तरह के लक्षण इस प्रकार में दिखाई देते है।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply

Your email address will not be published.