जौ खाने के फायदे

23

जौ का आटा और शक्कर समभाग मिलाकर खाने से बार-बार होने वाला गर्भपात रुकता है । जौ का पानी पीने से पथरी गल जाती है। पथरी के रोगियों को जौ से बनी चीजें रोटी, दाने, इस के सत्तू का सेवन करना चाहिए। जौ का मांड पीने से जलोदर समाप्त हो जाता है। इस को भून कर आटे की तरह पीसकर रोटी बनाकर खाने से मधुमेह में लाभ मिलता है।

जौ कि सत्तू और त्रिफला के काढ़े में शहद मिलाकर पीने से मोटापा समाप्त हो जाता है । उबले हुए जौ का पानी रोजाना सुबह-शाम पीने से शरीर में खून बढ़ता है | इस का पानी गर्मियों के दिनों में पीने से अधिक लाभ मिलता है | 50 ग्राम जौ को आधा लिटर पानी में डालकर उबालें | पानी आधा रहने पर इसको ठंडा करके दिन में दो-तीन बार इसका सेवन करें। इससे पेशाब में खून आना बंद हो जाता है। चीनी और इस के आटे से बने हुए लड्डू गठिया के रोगी के लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं। इससे दर्द और सूजन दूर होती है | इस के सत्तू खाकर ऊपर से एक गिलास गन्ने का रस पीने से पीलिया का रोग दूर हो जाता है |

जौ का सत्तू पीने या खाने से शरीर में ठंडक आती है और शरीर गर्मी सहन कर सकता है | आधा कप जौ का आटा और एक चम्मच मलाई में आधा नीबू निचोड़ लें और ऊपर से थोड़ा सा पानी डालकर घोल बना लें। फिर इसका लेप चेहरे पर लगाएं 15 मिनट बाद चेहरा पानी से धो लें | इस उपाय को हर रोज करने से चेहरे पर चमक आ जाएगी और चेहरा खूबसूरत दिखने लगेगा | सुबह के समय कच्चे इस को चबाकर खाने से गले की सूजन कम होती है और गला सूख जाता है | इस के सत्तू को शरीर पर मलने से जलन मिट जाती है |

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.