प्रेगनेंसी में आंवला खाना चाहिए या नहीं

0

मनुष्य का भोजन हमेशा षडरस्युक्त होना चाहिए l मधुर, अम्ल, लवण, तिक्त, कटु,  कषाय ये छह रस होते है lइन छह रस से युक्त भोजन का सेवन करने से मनुष्य स्वस्थ रहता है l आईये जानते है की, प्रेगनेंसी में आंवला खाना चाहिए या नहीं

गर्भावस्था के दौरान भी महिलाओंको षडरस्युक्त आहार का सेवन करना चाहिए lइस तरह से आहार लेने से मां और बच्चा दोनों भी स्वस्थ रहते है l

आंवला एक खट्टा मीठा फल है याने की आवले में मधुर, अम्ल, कषाय रस होते है lआंवला सेहत के लिए बहुत ही उपयोगी होता है l यह कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होता है l

गर्भावस्था के दौरान कई बार महिलाें के मन में कौन सी चीजों को खाए कौन सी चीजों का परहेज करे इसके बारे में संदेह रहता है l इसलिए ये खास पोस्ट जो महिलाए मां बनने वाली है उनके लिए है l 

आंवला विटामिन सी का बहुत ही अच्छा स्रोत है l

प्रेगनेंसी में आंवला खाना चाहिए या नहीं

शरीर की इम्यूनिटी को बेहतर रखने के लिए विटामिन सी बहुत जरूरी होता है l अगर आपके शरीर की इम्यूनिटी पॉवर अच्छी रहती है तो आप कई बीमारियों से भी दूर रह सकती हैl     

आवले में मौजूद विटामिन सी इम्यूनिटी पॉवर को मजबूत बनाता है और हमे कई तरह की बीमारियों से बचाता है lइम्यूनिटी पॉवर को मजबूत बनाने के लिए बीमारियों से दूर रहने के लिए गर्भवती महिलाओं हर रोज आवले का सेवन जरूर करना चाहिए l

गर्भावस्था के दौरान अक्सर अपचन, पेट फूलना जैसी समस्याएं होती है l ऐसे समय में पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए आंवला बहुत उपयोगी है l 

प्रेगनेंसी के दौरान अक्सर महिलाओं को कब्ज की शिकायत होती है l कब्ज से बचने के लिए आपको फाइबर युक्त चीजों का सेवन करना बहुत जरूरी है l आवले में फाइबर और पानी भी मौजूद होता है जिसकी वजह से यह कब्ज की समस्या में काफी फायदेमंद है l

कभी कभी प्रेगनेंसी के दौरान ब्लड प्रेशर बढ़ने लगता है l आवले का नियमित सेवन ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है l

गर्भावस्था के दौरान पैरों पर सूजन आना बहुत आम बात है l आवले में सुजनरोधी गुण मौजूद होते है जो पैरों की सूजन को कम करता है l

आवले में आयरन और विटामिन सी मौजूद होता है जो आयरन के अवशोषण में सहायता करता है l आवले का नियमित सेवन करके आप एनीमिया की समस्या से बच सकते है l

उल्टी, मतली की समस्या में आंवला बहुत उपयोगी होता है l गर्भावस्था में अक्सर महिलाेंको उल्टी,  मतली की शिकायत होने लगती है l ऐसे समय इन समस्याओं को कम करने के लिए आंवला बहुत उपयोगी है l

आवले में ऐसे गुण मौजूद होते है  जो ब्लड को शुद्ध करने का काम करते है l 

आवले में कैल्शियम की अच्छी मात्रा मौजूद होती है l कैल्शियम   दात और हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करता है l गर्भावस्था में शरीर को भरपूर मात्रा में कैल्शियम लेना जरूरी होता है इससे बच्चे की हड्डियां और दात मजबूत बनते है l इसलिए गर्भवती महिलाओं को आवले का सेवन जरूर करना चाहिए l

वैसे तो आप आवले को कई प्रकार से खा सकते है l

कच्चा आंवला अगर आपको पसंद है तो आप उसे कच्चा भी खा सकती है l

आवले को थोड़ा चटपटा बनाकर भी खा सकती है l इसके लिए आवले को 4 या  5 दिन तक नमक और हल्दी के पानी में भिगोकर रखें l

फिर आवले को अपनी से बाहर निकालकर उसके छोटे छोटे टुकड़े कर लीजिए l उसपर नमक या काला नमक और चुटकीभर चाट मसाला डाल दीजिए l अच्छे से मिक्स कर दीजिए l चटपटी आंवला तैयार हो जाएगा l

आवले का मुरंबा तो बड़ा ही स्वादिष्ट लगता है l इसे आप शक्कर की चाशनी में या गुड़ की चाशनी में बना सकती है l

ये मुरांबा लम्बे समय तक अच्छा भी रहता है l गर्भावस्था के दौरान अगर आप हर रोज सुबह खाली पेट आवले के मुरंबे का सेवन करते हैं तो इससे एसिडिटी की तकलीफ भी नही होगी और उल्टी मतली की शिकायत भी नही रहेगी l

आवले से आप घर पर ही आंवला सुपारी बना सकते है l इसे बनाना तो बहुत ही आसान है l कच्चे आवालोंको पानी भाप पर पकाए l

पके आवले के छोटे छोटे टुकड़े करके उसपर काला नमक और चाट मसाला लगा दीजिए l फिर आवले के धूप में अच्छे से सुखाए l आपकी आंवला सुपारी भी तैयार है l

आवले का आचार भी बहुत टेस्टी लगता है l बाजार में ये कई जगह पर मिलता है l या फिर आप इसे घर पर भी बना सकते है l

आप कच्चे आवले का सलाद बना सकते है या फिर को भी आप सलाद बनाते हैं उसमे आंवला मिला सकते है l

FREE E-Book: Manage Your Weight FREE E-Book: Manage Your Weight

Leave A Reply

Your email address will not be published.