प्रेम विवाह सही या गलत। नुकसान और फायदे।

188

मैंने आज ज्यादातर लोगोंका मनपसंद टॉपिक चुना है, उसका नाम है प्रेम विवाह। यहां पर आपको विवाह और प्रेम विवाह के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी। इसके साथ में किसके कितने फायदे और नुकसान है उसके बारे में भी चर्चा करेंगे। दोस्तों, ध्यान देने वाली यह बात है की अगर कोई प्रेम विवाह करता है तो ज्यादातर चान्सेस है की वो अपनी मर्जीसे करता है और अपने परीजनोंसे लड़ झगड़के कर रहा हो। वही अगर अरेंज मैरेज की तो परिवार की चॉइस से की हो। ऐसा हमारे समाज का अब देखने का नजरिया बन गया है, इसके विपरीत चित्र आपको काफी कम देखने को मिलेगा।

प्रेम विवाह किसे कहते है?

“जब दो व्यक्ति एकदूसरे के साथ जीने मरने की कस्मे खाते है, और उसे निभाने की कोशिश करते है उसे हम प्रेम विवाह कहते है”। अरेंज मैरेज की तो सबको पता है, परिवार के लोग एकदूसरे से मिलते है और शादी तय कर देते है। प्रेम विवाह में प्रेम की शुरवात किसी एक जगह से होती है वह कोई भी हो सकता है लड़का या लड़की। हमारे यहां प्यार होने की जगह भी लगभग तय है। आपको अपना साथी या तो परीजनोंमे मिलेगा या फिर आपके घर के आस पास, कुछ लोगोंको स्कूल में या फिर कॉलेज में मिलता है। उसके बाद कुछ लोगोंको काम की जगह पर किसीसे प्रेम हो जाता है। अगर आपको संभोग करते समय दिक्कत आती है, तो इस लिंक पे आपको आयुर्वेदिक गोली मिलेगी जो १ घंटे तक असर दिखाती है।

प्रेम विवाह के फायदे

सबसे महत्व पूर्ण फायदा है की इस विवाह करने वाले लोगोंको अपना जोड़ीदार का चयन करने का पूरा हक होता है। कुछ लोग दिमाग से जोड़ीदार का चयन करते है वही कुछ लोग दिलोजान से। प्रेम विवाह करने वाले दोनों जिव एकदूसरोंको काफी अच्छी तरह से जानते है। अपने जोड़ीदार को क्या अच्छा लगता है, क्या उसे ख़राब लगता है इसके बारे में जानकारी होती है। दोनों को एकदूसरे से आपसी सम्मान होता है, और वे अच्छी तरह से जानते है की किस समय पे अपने जोड़ीदार से किस तरह बात करनी है।

प्रेम विवाह एकदूसरे के प्रेम से बंधा होता है। अगर किसी तनाव की वजहसे रिश्ते में खटास आ भी गई तो वे दोनों एकजुट से प्यार बरकरार रखने का प्रयास करते है। प्रेमी जोड़ा अपने जीवन का जो भी निर्णय हो वो अपनी मर्जी से ले सकता है, उनके परिवार उसमे ज्यादा हस्तक्षेप नहीं कर सकते। दोस्तों, प्रेम विवाह करने वाले दोनों जिव एकदूसरे की जात नहीं देखते इसिलए देश से जातप्रथा ख़त्म होने में बेहद मदद मिलती है। कंडोम को यहासे खरीदो

जीवन का सफर

प्रेम विवाह करने वाले लोग एक दूसरे को अच्छी तरह से जानते है इसिलए उनको पूरा जीवन हसते खेलते व्यतीत करने में ज्यादा परेशानी नहीं होती। ज्यादातर केसेस में यही देखा गया है, की इस तरह का विवाह करने वाले लोगोंको एकदूसरे से कम और आसपास के लोगोंसे ही ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है, लेकिन हमारे देश का विचार करे तो लड़की को ससुराल से होनी वाली पीड़ा का सामना नहीं करना पड़ता है। अपने जोड़ीदार को क्या पसंद है क्या ना पसंद है, उसके बारे में डिटेल में पता होने के कारन घर में होने वाला अनचाहा खर्चा भी काफी हद तक कम होता है। प्रेम विवाह में शादी करने का चुनाव उन दोनोंका होता है, इसलिए शादी के बाद वह आने वाली परेशानी में एकदूसरे को दोष देने के बजह वे अपना टाइम परेशानी का हल निकालने में लगा देते है।

नुकसान

अगर आप अपने रिश्तदारोंके विरोध में जाकें प्रेम विवाह करेंगे तो आप को उनका समर्थन मिलने का चांस काफी कम होता है। कई मामलोंमें तो यही रिश्तेदार परेशानी का कारन बन जाते है। अगर आपके प्यार का आसपास के लोगोमे ज्यादा शोऑफ हुआ तो, कुछ समय बाद आप अपने जोड़ीदार से थक जाते है और शादी टूटने का खतरा भी रहता है। समाज से लड़ झगड़के किया हुआ प्रेम विवाह अपने माता पिता को काफी परेशानी पहुंचा सकता है। कई बार हमारे माता पिता चाहकर भी हमारे साथ नहीं रहते, क्योंकि समाज में पुरे जीवन में उन्होंने कमाई हुयी इज्जत दाव पे लग जाती है। उन्हें अपने रिश्तोदारोंसे भी भलाबुरा सुनना पड़ता है।

बहुत सारे मामलोंमें तो माता पिता ही एक दूसरे से लड़ने लगते है, और आपकी नादानी का दोष एकदूसरे को देने लगते है। इससे उनके जीवन में खटास पैदा हो जाती है। आगे जाकें वो दोनों आपसे बात करना ही बंद कर देते है। आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.