बवासीर

205

दोस्तों, आजकल हमारी लाइफ बहुत फ़ास्ट बन गयी है | इस फ़ास्ट लाइफ में फ़ास्ट फ़ूड का सेवन भी बढ़ गया है | भोजन में फाइबर मिलना बंद हो गया है | लोग एक ही जगह पर घंटो बैठकर काम करने लगे है, जिसके कारण शरीर की हलचल रुक गई है | इसीलिए आज हम बात करेंगे बवासीर का घरेलू उपाय के बारे में ।

काम में बिजी रहने के कारण लोग पानी कम पिते है, एक्सरसाइज तो बिल्कुल भी नहीं होती | इन सबका नतीजा होता है कॉन्स्टिपेशन याने की कब्ज |

बवासीर की समस्या का पहला कारण और लक्षण कब्ज है | लम्बे समय तक कब्ज रहने के कारण बवासीर की समस्या निर्माण हो जाती है | बवासीर की समस्या में मल त्याग करने में बहुत मुश्किल हो जाता है | मल कठिन बन जाता है |

जिसके कारण मल त्याग करते समय बहुत जोर लगाना पड़ता है | गुद भाग पर तेज दर्द होने लगता है | बार बार जोर लगाने के कारण मल के साथ ब्लीडिंग होने लगती है |

कभी कभी गुदभाग पर मस्से आ जाते है | ये मस्से धीरे धीरे बढ़ जाते है, जिसके कारण लोगों को बैठने में तकलीफ होती है | ये मस्से काटों की तरह चुबते है, इसीलिए बवासीर को आयुर्वेद में अर्श कहा जाता है l

बवासीर के लक्षण

महिला बवासीर के लक्षण

बवासीर की गारंटी की दवा

फिटकरी से बवासीर का इलाज

मस्से वाली बवासीर की दवा

बवासीर की दवा

पेशाब से बवासीर का इलाज

बैद्यनाथ बवासीर की दवा

धागे से बवासीर का इलाज

केले से बवासीर का इलाज

खूनी बवासीर की दवा पतंजलि

बवासीर का घरेलू उपाय

बवासीर से बचने के लिए सबसे पहले आपको अपने भोजन में बदलाव करना होगा | फाइबर युक्त डाइट का सेवन करके आप कब्ज और बवासीर से दूर रह सकते है |

अपने आहार में ककड़ी, गाजर, मूली, हरे पत्तेदार सब्जिया जैसे की पालक पत्ता गोभी, ब्रोक्कोली इन सभी चीजों का ज्यादा से ज्यादा समावेश करे |

फलों में केला, सेब, पपीता, अमरुद जैसे फलों का ज्यादा सेवन करे | फ्रूट्स जूस के बजाय हमेशा फ्रूट्स खाये क्यूंकि इसमें ज्यादा फाइबर होते है |

ज्यादा मिर्च मसालेदार भोजन करने के कारण भी गुदभाग में जलन होने लगती है, मलत्याग करने में दर्द होने लगता है | इसलिए ऐसे भोजन से दूर रहे |

फ़ास्ट फ़ूड, बेकरी प्रोडक्ट, ब्रेड पाव का ज्यादा सेवन करने से भी कब्ज निर्माण होता है . इसलिए इससे बचना भी बेहद जरूरी है | मैदे से बनी हुयी चीजों का सेवन जितना हो सके उतना कम करे |

मांस, मच्छी का सेवन भी कम से कम करे | बवासीर का घरेलू उपाय में डाइट पर बहुत ध्यान देना पड़ता | अधिक फाइबर के लिए अपने आहार में ओट्स, स्प्राउट का समावेश करे |

गेहू के आटे का बिना चालन किये ही उसकी रोटी बनाये, उससे भी आपको अधिक फाइबर मिलेंगे | दिन में कम से कम ४-५ लीटर तक पानी का सेवन जरूर करे |

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

FREE E-Book: Manage Your Weight FREE E-Book: Manage Your Weight

Leave A Reply

Your email address will not be published.