भीगे बादाम कब और कैसे खाना चाहिए

49

मेरे प्यारे दोस्तों, हर व्यक्ति चाहता है की वो जिंदगी भर स्वस्थ रहे। छोटीसी छोटी बीमारी के भी शिकार हम न बने।पूरी उम्र हमारी मेमोरी शार्प रहे। हमारी इन सभी ख्वाइशोंको पूरा करने का काम करते है भीगे बादाम।

हर गर्भवती चाहते है की उसका होने वाला बच्चा स्वस्थ रहे और दिमाग से तेज बने। वो चाहती है की उसके बच्चे की हड्डिया मजबूत बनी रहे। वो हमेशा बीमारी से दूर रहे।  भीगे हुए बादाम में कई सारे पोषकतत्व मौजूद होते है। इसमें प्रोटीन, फायबर, ओमेगा ३ फैटी एसिड, विटामिन इ, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नेसियम, जैसे महत्वपूर्ण घटक पाए जाते है। 

भीगे हुए बादाम खाने से हड्डिया मजबूत बनी रहती है। इसमें कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है, जो हड्डियोंको मजबूती प्रदान करती है। हड्डिया मजबूत होने के बाद आप ऑस्टिओ पोरोसिस की बीमारी से दूर रह सकते है।  

गर्भावस्ता में भीगे बादाम खाने से क्या होगा। Soaked Almond

जो लोग अपनी मेमोरी को शार्प बनाना चाहते है वो लोग भीगे बादाम का सेवन अवश्य करे। जिन बच्चोंका मानसिक और बौद्धिक विकास अच्छी तरह से नहीं हुआ है उन बच्चोंको हर दिन सुबह भिगाये हुए बादाम खाने के लिए देना चाहिए। लगातार २ – ३ महीनोंतक ऐसा करने से उनके दिमाग का धीरे धीरे विकास होना शुरू होगा। 

मधुमेह से परेशान लोग भी भीगे बादाम का सेवन कर सकते है। बादाम का नियमित सेवन आपके शरीर में रक्त के स्तर को नियंत्रित करने का काम करता है। 

बादाम में मौजूद मैग्नीशियम और फोलिक एसिड धमनी में रक्त जमाव की सम्भावनाओंको कम करने का काम करते है। हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में भिगाये हुए बादाम खाना काफी लाभकारी है। बादाम एंटी ऑक्सीडेंट का एक बहुत ही अच्छा स्त्रोत है, जो हमे कैंसर और दिल की बीमारी से बचाता है। 

बादाम में पाए जाने वाला फायबर पाचन प्रक्रियांको संतुलित बनाये रखने का काम करता है। भिगाये हुए बादाम में Monosaturated और Polysaturated Fat अधिक मात्रा में होती है, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने और हर्ट स्ट्रोक को कम करने में मदद करते है। 

गर्भवती महिलाओंको भीगे बादाम का सेवन जरूर करना चाहिए। ये गर्भवती और बच्चे के सेहत के लिए बहुत ही लाभकारी है। गर्भावस्ता में हर रोज इसका सेवन करने से बच्चा होशियार बनता है। 

स्वस्थ बालोंके लिए विटामिन ए, बी, सी और कैल्शियम की विशेष जरूरत रहती है। हर रोज ३-४ भीगे बादाम खाने से बाल मजबूत और चमकदार बनते है। भीगे हुए बादाम खाने से आपको कब्ज की समस्या नहीं होगी। बादाम में अधिक मात्रा में फायबर मौजूद होता है, जिससे पेट अच्छी तरह से साफ होता है। 

बादाम में आपकी इम्युनु सिस्टम को बढाने वाले गुण मौजूद होते है। बादाम में prebiotics होते है जो हमारे आंतो में मौजूद अच्छे बैक्टीरिया के निर्माण में मदद करते है।    

अच्छे बैक्टीरिया की संख्या बढ़ने के कारन आपका पाचनतंत्र ठीक हो जाता है और साथ में ही रोगप्रतिकाररोधक शमता भी बढ़ जाती है। 

भिगाये हुए बादाम त्वचा के लिए काफी महत्व पूर्ण होते है। यह एक नेचुरल एंटी एजिंग फ़ूड है। चेहरे से झुर्रिया कम करने के लिए आप भीगे बादाम का सेवन कर सकते है। इससे आपकी त्वचा सुन्दर, जवान और सवस्थ रहेगी।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply

Your email address will not be published.