मसूडोंकी सूजन होने के मूल कारन, लक्षण और उपाय । वीडियो भी है

40

आज के दिनों में देखा जाये तो खाने की चीजोंमे बदलाव हो गया है। इंटरनेट की वजहसे दुनिया नजदीक आ गई है, अगर किसीको कोई डिश बनानी हो तो यूट्यूब से वो आसानीसे सिख सकता है। ये सब बाते आपको बताने के पीछे एक कारन छुपा हुआ है। जो खाना है वो तो हम बनाके खा रहे है, लेकिन जिस तरह दुनिया भर में वातावरण अलग अलग होता है उसी तरह खाने में व्यंजन भी अलग अलग होते है। जैसे की चाय का जनम ब्रिटेन में हुआ था, वहा का मौसम ठण्ड होता है और चाय गर्म इसीलिए उनके लिए यह पेय लाभदायक साबित होता है। लेकिन चाय सबसे ज्यादा लोकप्रिय तो भारत में हो गई, यह का मौसम गर्म और उपरसे चाय भी गर्म। तो ज्यादा चाय भारतीय लोगोंके लिए मुसीबत साबित हो सकती है। उनमे से एक मुसीबत है मसूडोंकी सूजन।

छोटा बच्चा हो या फिर बूढ़ा आदमी, यह समस्या हर किसी को हो सकती है। मसूडोंकी सूजन पोषक तत्वोंकी कमी, मुँह में होने वाला इन्फेक्शन और खाने में बदलाव जैसी कारणों से हो सकती है।

मसूडोंकी सूजन के कारन : –

  • दातों की सफाई का ध्यान न रखना।
  • लार उत्पादन में कमी आना ।
  • तम्बाखू, गुटखा, पान मसाला जैसी चीजों का ज्यादा सेवन करना ।
  • शराब ज्यादा पीना ।
  • मधुमेह के कारण मसूड़ों के रक्त प्रवाह में क्षति निर्माण होती है और मसूड़ों में सूजन आ जाती है ।
  • एप्लेप्सी की बीमारी में दी जनि वाली दवाओं के कारण भी कुछ लोगों को मसूड़ों में सूजन की समस्या हो सकती है ।
  • कैंसर और कैंसर के उपचार में दी जानेवाली दवाओं के साइड इफ़ेक्ट के कारण मसूड़ों में सूजन आ जाती है ।
  • कार्बोहैड्रेट या शुगर युक्त चीजों का ज्यादा सेवन करना ।
  • अत्यधिक तनाव में रहने के कारण इम्मुनो रेस्पोंस कम हो जाता है जिसके कारण कोई भी संक्रमण जल्दी होता है मसूड़ों में सूजन आ जाती है ।

युवावस्था, गर्भावस्था , रजोनिवृत्ति के दौरान होनेवाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण कुछ लोगों में मसूड़ों में सूजन आ जाती है। बहुत ही कम मात्रा में पानी पीने के कारण भी कुछ लोगों को मसूड़ों ने सूजन की समस्या हो जाती है। शरीर में वीटामिन्स C की कमी होने के कारण भी मसूड़ों में सूजन हो सकती है।

मसूडोंकी सूजन के लक्षण –

  • सूजे या लाल मसूड़े जिससे आसानी से रक्तस्राव होना।
  • मसूड़ों पर सफ़ेद धब्बे आना।
  • मुँह से दुर्गन्ध आना।
  • दांत और मसूड़ों के बीच मवाद होना।
  • भोजन करने में दिक्क्त होना।

आयुर्वेदिक उपाय-

अमरूद के ताजा कोमल पत्तों को दिन में तीन चार बार चबाये या फिर अमरुद के पत्तों को पानी में उबालकर काढ़ा तैयार करे इस करे फिर इस काढ़े से दिने में दो तीन बार कुल्ला करे इससे आपको आराम मिलेगा। पुदीने की पत्तियों को पानी में उबालकर इसकी चाय तैयार करे फिर इस चाय को गुनगुना करके इससे दिन में दो बार कुल्ला करे इससे आपको आराम मिलेगा।
हल्दी में सरसो का तेल मिलाकर इसकी पेस्ट तैयार करे फिर मसूड़ों पर इसका लेप लगाए कुछ देर बाद गुनगुने पानी से कुल्ला करे इससे मसूड़ों की सूजन ठीक हो जाएगी।

नमक में थोड़ा गुनगुना पानी मिलाकर इसे मसूड़ों पर मले और फिर कुछ देर बाद कुल्ला करे।
दिन में तीन चार बार लौंग को चबाये या फिर लौंग का तेल मसूड़ों पर लगाए इससे इससे सूजन ठीक हो जायेगी। छोटे बच्चे गर्भवती महिलाओं को ये उपाय नहीं करना चाहिए।
मेहंदी के पत्तों को पानी में उबालकर इससे दिन में दो बार कुल्ला करे इससे आपको फायदा होगा।
अरंडी के तेल में कपूर मिलाकर इससे मसूड़ों पर मले इससे सूजन ठीक हो जाएगी।
की सूजन ठीक हो जाती है साथ ही मसूड़ों के रोग भी ठीक हो जाते है। बबूल की छाल का काढ़ा तैयार करके इससे दिन में दो बार कुल्ला करे इससे आपको फायदा होगा |

एक गिलास गुनगुने पानी में ताजे निम्बू का रस मिलाकर इससे कुल्ला करे इससे सूजन धीरे धीरे कम होने लगेगी और दर्द में भी आराम मिलेगा।
अदरक और नमक को एक मिलाकर पीस ले फिर इस पेस्ट को मसूड़ों पर मले इससे आपको फायदा होगा। फिटकरी का चूर्ण बनाकर इसे मसूड़ों पर मले इससे आपको आराम मिलेगा।

बार बार होनेवाली मसूडोंकी सूजन से बचने के उपाय –

  • मसूड़ों की सूजन से बचने के लिए दातों की सफाई का ख़याल रखे।
  • भोजन करने के बाद कुल्ला जरूर करे।
  • चाय कॉफी पीने के बाद कुल्ला करना ना भूले।
  • तम्बाखू, गुटखा, पान मसाला, शराब जैसी चीजों का सेवन बिल्कुल भी ना करे।
  • विटमिन्स C युक्त चीजों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करे।
  • कैल्सियम और विटामिन्स D युक्त चीजों को अपने भोजन में शामिल करे।
  • कार्बोहैड्रेट, शुगर युक्त चीजों का सेवन जितना हो सके उतना कम सेवन करे।
  • ज्यादा से ज्यादा पानी पिए।
  • तीन महीने में एक बार अपना टूथब्रश जरूर बदले।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply