मेधा वटी के फायदे

1,327

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड कंपनी द्वारा बनाई जाने वाली दिव्य मेधा वटी आयुर्वेदिक औषधि है | आयुर्वेद में गोलियों को वटी, गुटिका, वटीका कहा जाता है। मेधा यानी बुद्धि, स्मृति |

जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए बुद्धि का अच्छी तरह से विकास होना जरूरी है। हमारी स्मरण शक्ति अच्छी होनी चाहिए। दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए यह वटी एक बहुत ही अच्छी औषधि है।

इस औषधि का सेवन बच्चे, जवान लोग, बूढ़े लोग, पुरुष, महिला सभी कर सकते हैं। यह मस्तिष्क शक्ति बढ़ानेवाली, याददाश्त बढ़ाने वाली एक बहुत ही अच्छी औषधि है।

मेधा वटी के घटक –

  • प्रवाल पिष्टी
  • मोती पिष्टी
  • ब्राह्मीसत्व
  • वचसत्व
  • शंखपुष्पीसत्व
  • जहरमोहरा पिष्टी
  • जटामांसी
  • अश्वगंधा
  • ब्राह्मी
  • मालकांगनी

मेधा वटी के फायदे

  1. याददाश्त बढ़ाए– मेधा वटी याददाश्त बढ़ाने वाली एक बहुत ही अच्छी औषधि हैl जो बच्चे पढ़ाई में कमजोर है। छोटी छोटी चीजों को ध्यान में नहीं रख पाते ऐसे बच्चों की स्मरण शक्ति बहुत ही कमजोर होती है। बच्चों के मस्तिष्क को तेज बनाने के लिए उनकी बुद्धि को तेज बनाने के लिए यह वटी बहुत ही फायदेमंद है।
  2. सिरदर्द – बहुत ज्यादा तनाव के कारण सिरदर्द की समस्या होती है। सिरदर्द को दूर करने के लिए मेधा वटी बहुत ही असरदार है।
  3. मानसिक विकारों के लिए – मानसिक विकार एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर को दर्द नहीं होता पर मन से वह व्यक्ति बहुत ही कमजोर हो जाता है। आयुर्वेद के कुछ आचार्य हृदय को मन का स्थान मानते हैंl तो कुछ आचार्य मस्तिष्क को मन का स्थान मानते हैं। यह वटी मस्तिष्क पर असर करती है। जिससे मानसिक विकारों में भी बहुत ही लाभ होता है। तनाव, चिंता, अवसाद, घबराहट यह सभी मानसिक बीमारियों के लक्षण है इन समस्याओं को दूर करने के लिए आप मेधा वटी का सेवन कर सकते हैं।
  4. पाचन तंत्र– मानसिक विकारों के कारण, तनाव के कारण कभी-कभी पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याएं शुरू होती है। पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाने के लिए दिव्य यह वटी एक बहुत ही अच्छी औषधि है।
  5. अनिद्रा का इलाज – तनाव, चिंता, काम का प्रेशर जैसे कारणों से लोगों को अच्छी नींद नहीं मिलती जिंदगी जीने के लिए जिस तरह से भोजन पानी की जरूरत होती है उसी तरह से नींद की भी हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा हैl नींद एक स्वाभाविक प्रक्रिया है पर कुछ लोग अनिद्रा की समस्या से परेशान रहते है। रात भर सो नहीं पाते। ऐसे लोगों कोयह वटी का सेवन करना चाहिए। यह औषधि मस्तिष्क को शांत करती है जिससे अच्छी नींद आती है।

मेधा वटी की मात्रा –

दिव्य मेधा वटी की एक-एक गोली सुबह शाम गुनगुने पानी के साथ से ले सकते हैं। अच्छी वाली मेधा वटी यहासे खरीदो

नुकसान –

सिरदर्द, मतली, पेट खराब होना, बेचैनी, जलन का अहसास होना, चक्कर आना यह सभी इस औषधि के दुष्परिणाम है। इसे लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

1 Comment
  1. राजेन्द्र says

    Side effects ke bare mein aapne galat likha hai..ये बैचनी को सही करती है,सिरदर्द सही करती है,चक्कर सही करती है,गैस नही बनने देती,हल्की फुल्की साइड इफ़ेक्ट हो सकते है वो भी डबल डोज लेने के बाद ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.