सहजन के फायदे

35

हम सब सब्जिया खाते है। भारत में आपको सबसे अच्छी क्वालिटी की सब्जिया मिलती है, सहजन भी उनमेसे एक है। विविध गुणोंसे भरपूर सहजन आपको भारत के अनेक जगहोंपर मिल जायेंगे। बाकि सब्जिओंसे सस्ती यह सब्जी आप अनेक व्यंजनोमे इस्तेमाल कर सकते हो। अंग्रेजी में इस सब्जी को ड्रमस्टिक कहते है और भारत के कुछ क्षेत्र में इसे मोरिंगा भी कहते है।

इसकी खासियत यह है की साल में सिर्फ एक बार सहजन के पेड़ को फूल लगते है और उस फूल से फल तैयार होते है। अगर सहजन के आकार के बारे में बात करे तो लम्बी काठी के तरह इसका आकार होता है और रंग में यह फ्रेश हरा होता है। पेड़ के सबसे ऊपर लटकने वाली यह सब्जी गुणोंके मामले में भी सबसे ऊपर है।

विविध औषधि बनाने के लिए इसके फूल, पत्ते, और फल का प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद की बात करे तो इसके फल का गुदा निकालकर लेप की तरह इस्तेमाल किया जाता है। आयुर्वेद के अनुसार ३०० से ज्यादा रोगोका इलाज आप सहजन से कर सकते हो। अगर आपने सहजन की पत्तिया गाय, भैंस आदि दूध देने वाले जानवरोंको खाने में दिया तो उनके दूध में दुगनी वृद्धि हो जाती है। यही नहीं उनका वजन भी बढ़ने में सहजन का इस्तेमाल आप कर सकते हो। किसी भी प्रकार का खाने में इस्तेमाल किया जाने वाला सांबर सहजन के सिवाय अधूरा है।  

सहजन के सारे फायदे आपको इस वीडियो में मिल जायेंगे

सहजन में भरपूर मात्रा में पोटैशियम, विटामिन्स और खनिज पाए जाते है। मोरिंगा पेट की समस्या का इलाज करने के लिए बहुत ही लाभकारी है। यह हल्का रेचक है। यह पेट को साफ करता है। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर मौजूद होते है जो कब्ज की समस्या से मुक्ती दिलाते है। सहजन  पेट के कीड़े और जीवाणुओं को भी नष्ट कर देता है। कुछ लोग सहजन की पाउडर(amazon link) बनाकर रोजाना एक एक चम्मच पानी में मिलाकर सेवन करते है उससे उनका स्वस्थ हमेशा ठीक रहता है। शरीर पर ज्यादा फैट जमा नहीं होता है। 

इसमें एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीवायरल गुण मौजूद होते है, जो आपकी त्वचा को कई प्रकार के संक्रमण से बचाते है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन्स A  होता है जो त्वचा की सुंदरता को बनाये रखता है। इसके अलावा इसमें भरपूर मात्रा में आयरन मौजूद होता है जो खून को साफ करता है। जिससे चहरे पर होनेवाले पिम्पल्स खत्म हो जाते है और त्वचा चमकने लगती है।

सहजन दांत और हड्डियोंके लिए

इसमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम मौजूद होता है| इसे बच्चों को देने से उनके दाँत और हड्डिया मजबूत बनने लगते है। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर जोड़ों में, हड्डियों में दर्द होने लगता है, हड्डियों से आवाज आने लगती है, हड्डिया कमजोर बन जाती है इन सभी समस्याओं से बचने के लिए आप नियमित रूप से सहजन का सेवन कर सकते है। इसका नियमित सेवन करके आप ओस्टोपोरोसियस की समस्या से भी बच सकते है।

गर्भवती महिलाओं के लिए ये बहुत ही फायदेमंद है। इसे खाने से गर्भ में पल रहे बच्चे को आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस मिलते है, जो बच्चे के स्वास्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद होते है।

ब्लड प्रेशर नियंत्रित

सहजन में भरपूर मात्रा में पोटैशियम मौजूद होता है , जो आपके ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने का काम करता है। जिन लोगों को हाई BP की समस्या है उन्हें हफ्ते में ३-४  बार सहजन का सेवन जरूर करना चाहिए। महिलाओं के लिए सहजन एक बहुत ही फायदेमंद सब्जी है। यह माहवारी संबधी और गर्भाशय संबधी समस्याओं को दूर करती है। जिन  लोगों को एनीमिया की बीमारी है, जिनमे रक्त की कमी है ऐसे समय में उन्हें मोरिंगा का भरपूर सेवन करना चाहिए।

मोटापा और शरीर की बढ़ी हुयी चर्बी को दूर करने के लिए सहजन बहुत ही फायदेमंद होता है। इसमें फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो शरीर की अतिरिक्त कैलोरी को कम करने का काम करता है और साथ में वसा को भी कम करने का काम करता है। सहजन में सूजन और दर्द को कम करने के गुण होते है। यह सभी वातदोषों दूर करता है। गठिया, जोड़ों का दर्द, सिरदर्द, ARTHITIS मबहुत ही फायदेमंद है।  

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply