सिरप टॉसेक्स (Tossex)

77

ABBOTT HEALTH CARE PVT.LTD यह कंपनी इस सिरप को बनाती है। यह कंपनी मुंबई के बांद्रा ईस्ट में स्थित है। 1982 से यह कंपनी वैद्यकीय क्षेत्र में काम कर रही है। मुनीर शेख इस कंपनी के CEO है। यह कंपनी हाई क्वालिटी ट्रस्टेड मेडिसिन बनाती है | यह इंडिया की बहुत ही तेजी से बढ़ने वाली फार्मासिटीकल कंपनी है।

इस सिरप में Codein 10mg और Chlorpheniramine 4mg होता है।

इन दोनों के मिश्रण से यह सिरप बनाया जाता है जो ज्यादातर सुखी खासी को कम करने का काम करता है। इसमें Codein होने की वजह से 12 साल से कम बच्चों को इसे नहीं देना चाहिए।

सिरप टॉसेक्स के फायदे –

किसी चीज की एलर्जी के कारण होने वाली सुखी खासी को कम करने के लिए आप इसे ले सकते हैं। बैक्टीरियल इन्फेक्शन फंगल इंफेक्शन के कारण होने वाली खांसी के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है। क्रोनिक (दीर्घकाल चलने वाली) कफ में यह सिरप बहुत ही उपयोगी है।

Codein एक Opioid नारकोटिक एनाल्जेसिक है। शरीर में होने वाले दर्द को कम करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। ( नारकोटिक्स ड्रग MBBS डॉक्टर की प्रिस्क्रिप्शन के बिना आप खरीद नहीं सकते)

गर्भवती महिलाओं को codein का उपयोग नहीं करना चाहिए। अस्थमा का अटैक आने पर, सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत होने पर, आंतों में ब्लॉकेज होने की स्थिति में इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

Chlorpheniramine एक एंटीहिस्टामाइन है जो एलर्जी की समस्याएं जैसे कि नाक से पानी आना, छींक आना, खुजली आना, कॉमन कोल्ड, सर्दी जुकाम के कारण आंखों से पानी आना जैसी समस्याओं को ठीक करता है।

एंटीहिस्टामाइन शरीर में मौजूद नेचरल केमिकल हिस्टामाइन के इफेक्ट को कम करता है।

इसके इस्तेमाल से बहुत ज्यादा नींद आ सकती है।

सिरप टॉसेक्स साइड इफैक्ट्स –

  • कब्ज
  • उलझन
  • चक्कर आना
  • सिर दर्द
  • थकान महसूस होना
  • पेट दर्द
  • पेशाब में दिक्कत आना
  • लालिमा, खुजली
  • मतली, उल्टी
  • बेचैनी
  • मुंह सूख जाना।

इस सिरप का असर 4 से 6 घंटे तक रहता है। इसलिए इसे दिन में तीन बार लेना चाहिए। इस सिरप को लेते समय अल्कोहल का सेवन नहीं करना चाहिए l

स्तनपान करने वाली माताओं को डॉक्टर की सलाह से इसका सेवन करना चाहिए। अगर किसी को कोडेन या Chlorpheniramine की एलर्जी है तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

प्रोस्टेट ग्रंथी बढ़ जाने की स्थिति में भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए। इससे पेशाब करने में दिक्कत हो सकती है।

दिमाग पर चोट(हेड इंजूरी) लगने पर भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए। अगर किसी व्यक्ति को फीटस आते हैं तो डॉक्टर की सलाह के बिना इसे नहीं लेना चाहिए।

अतिसार की समस्या में या इन्फेक्शन डायरिया की समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह से ही इसका सेवन करें l

वयस्क लोगों को इसे कम मात्रा में दें और निरीक्षण करें।

इसे लेने के बाद हेवी मशीन पर काम ना करें या ड्राइविंग भी ना करें क्योंकि इसके इस्तेमाल से नींद आती है जिसकी वजह से एक्सीडेंट हो सकते हैं |

मात्रा –

5ml की मात्रा में दिन में तीन बार खाना खाने के बाद इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.