स्तन कैंसर बाकि कैंसर की तरह ही है |

96

कैंसर तब होता है जब शरीर परिवर्तन जीन में होते हैं, जो कोशिका विकास को नियंत्रित करते हैं। सीधे भाषा में कहा जाये तो हमारे शरीर के सेल्स ज्यादा मात्रा में बढ़ने लगती है। कोशिकाएं(Cells) बढ़ती रहती हैं, प्रतियां उत्पन्न करती हैं जो प्रगतिशील रूप से अधिक असामान्य होती हैं। ज्यादातर मामलों में, कोशिका उसके आखरी चरण में ट्यूमर बनाती हैं। स्तन कैंसर बाकि कैंसर की तरह ही है जो स्तन कोशिकाओं में विकसित होता है। आम तौर पर, कैंसर या तो लोब्यूल या स्तन के नलिकाओं में होता है। लोब्यूल ग्रंथियां हैं जो दूध पैदा करती हैं, और नलिकाएं मार्ग हैं जो दूध को ग्रंथियों से निप्पल तक लाती हैं।

कैंसर आपके स्तन के भीतर फैटी ऊतक या रेशेदार संयोजी ऊतक में भी हो सकता है।अनियंत्रित कैंसर कोशिकाएं अक्सर अन्य स्वस्थ स्तन ऊतकों पर आक्रमण करती हैं। लिम्फ नोड्स एक प्राथमिक मार्ग है जो कैंसर कोशिकाओं को शरीर के अन्य हिस्सों में स्थानांतरित करने में मदद करता है।

CDC (Centers for Disease Control and Prevention) के अनुसार ब्रेस्ट कैंसर जो है ओ महिलाओंमे पाने जाने वाला सबसे ज्यादा कैंसर का प्रकार है। २०१५ की रिपोर्ट में सिर्फ अमेरिका में २,३२,००० महिलाये इस कैंसर का शिकार हुई थी और उनमेसे ४०००० महिलाओंको अपनी जान गावनि पड़ी। यह पर में आपको एक बात बतानी चाहूंगी की यह ब्रेस्ट कैंसर सिर्फ महिलोंमे ही नहीं पाया जाता है, पुरुष भी इस बीमारी के शिकार होते है। २०१५ के रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में २००० पुरुष इस बीमारी के शिकार हुए थे और उनमेसे ४०० लोगोंको अपनी जान इस बीमारी के वजह से गावनि पड़ी थी।

तो चलिए जानते हे की ब्रेस्ट कैंसर कारण क्या क्या है।

उम्र – यह कैंसर उम्र के साथ आपको अपना शिकार बना लेता है। जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ जाएगी वैसे वैसे यह कैंसर होने की संभावना भी बढ़ जाएगी।
नशा – जरूरत से ज्यादा नशा करने वाली औरतोंको यह कैंसर होता है।
Dense breast tissue – इसका मतलब है घने स्तन ऊतक। जिन महिलाओंमे यह पाया जाता है उनमे इस कैंसर की ज्यादा संभावना है।
लिंग – पुरषोंके तुलना में महिलाओंमे यह कैंसर होने की संख्या बहुत ज्यादा है।
माहवारी – अगर किसी औरत में माहवारी १२ की आयु से पहले आयी हो तो उसे इस रोग का खतरा है।
माँ की उम्र – अगर किसी महिलांए बच्चे को काफी देर बाद जन्म दिया है तो ओ इस बीमारी की शिकार हो सकती है।
गर्भावस्ता – अगर कोई महिला अपने पुरे जीवन में कभी भी माँ नहीं बनी है तो उसको भी यह बीमारी हो सकती है।

इन सभी करनेके अलावा अगर किसी महिला को भूतकाल में इस कैंसर से जूझना पड़ा हो तो आगे भी वो इस बीमारी की शिकार बन सकती है। यह पर हमे brest cancer के symptoms भी जानना जरूरी है। उसमेसे कुछ आपको मै बताना चाहूंगी जैसे की स्तन पे गाठ आना, स्तन में दर्द होना, स्तन के ऊपर लाल points तयार होना, पुरे स्तन में सूजन आना, अचानक स्तन के आकर में बदलाव आना, आपके अंडरआर्म के निचे गाठ आना।

अब आप कहेंगे की brest cancer हुआ है उसे कैसे पहचाने ?
तो उसके लिए आपको दो तरह की टेस्ट करवानी पड़ती है। सबसे पहले आता है Mammogram , अगर इसमें आपके डॉक्टर को कुछ लगा तो ओ आपको आगे की टेस्ट करवाने को बोलते है। ब्रेस्ट कैंसर आपको Ultrasound के जरिये भी पता चल सकता है। आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े।

Folic Acid एक गर्भावस्था के लिए वरदान की तरह है!

Leave A Reply