हरिद्रा खंड की जानकारी

74

आयुर्वेद में चूर्ण, कल्क, क्वाथ, कषाय, खंड तेल इस तरह के अलग अलग प्रकार की औषधियों (हरिद्रा खंड) को बनाया जाता है। खंड पाक कल्पना भी उन्हीं में से एक है इस कल्पना में गुड़ या शक्कर को औषधियों के साथ में मिलाकर पाक किया जाता है।

अच्छी तरह से पाक होने पर खंडपाक कल्पना से औषधि का निर्माण किया जाता है। खंडपाक औषधि का आयुर्वेद में बड़ा विशेष महत्व है।

हरिद्रा खंड भी उन्हीं में से एक औषधि है | हरिद्रा याने की हल्दी या टरमरिक I हल्दी एक जड़ी बूटी है जो औषधीय गुणों से भरपूर होने के कारण मसालों में भी इसका बड़ा विशेष महत्व है |

हल्दी एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है इसमें करक्यूमिन पाया जाता है, जो हमें कई बीमारियों से बचाता है | इसके अलावा इसमें एंटीबायोटिक, एंटीपायरेटिक, एंटीसेप्टिक, एंटीफंगल, एंटीमाइक्रोबियल्स से गुण मौजूद होते हैं।

इसके अलावा हल्दी विटामिन सी, विटामिन बी, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट का फाइबर का बहुत ही अच्छा स्रोत है | हल्दी एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है इसमें करक्यूमिन पाया जाता है, जो हमें कई बीमारियों से बचाता है |

हल्दी एक सर्वश्रेष्ठ औषधि है, जो हमें कई तरह की बीमारियों से बचाती है। इस औषधि के निर्माण में मुख्य घटक हल्दी होने के कारण इसे हरिद्रा खंड कहा जाता है।

हरिद्रा खंड घटक

हरिद्रा
गाय का दूध
गाय का घी शर्करा यह मुख्य घटक होते हैं।

प्रक्षेप द्रव्य के रूप में इसमें आंवला चूर्ण, हरड़ चूर्ण, बहेड़ा चूर्ण, नागकेसर चूर्ण, त्रिवृत चूर्ण, कालीमिर्च, पीपल चूर्ण, दालचीनी चूर्ण, लोह भस्म इन सबको समान मात्रा में मिलाया जाता है।

साथ ही इसमें जरूरत के अनुसार पानी को भी मिलाया जाता है। इस औषधि को आप शास्त्रोक्त विधि से घर पर बना सकते हैं या फिर बाजार से खरीद कर इसका सेवन कर सकते हैं |

हरिद्रा खंड फायदे

त्वचा विकार

हल्दी में एंटीएलर्जी, एंटीफंगल गुण होने के कारण यह औषधि त्वचा विकार या Skin Disease में बहुत ही लाभकारी है I त्वचा विकार या चर्म रोग के कारण त्वचा पर खाज खुजली आ जाती है। त्वचा पर चकत्ते आते हैं।
हरिद्रा खंड का नियमित सेवन करने से आप चर्म रोग से मुक्ति पा सकते हैं। इसके उपयोग से त्वचा की खाज खुजली, चकत्ते, लालिमा कम होने लगते हैं | शीत पित्त की समस्या में ये बहुत ही गुणकारी औषधि है | हल्दी में मौजूद कण्डुघ्न, कुष्टघ्न, कृमिघ्न गुण त्वचा विकारों को जड़ से नष्ट कर देते हैं l

एलर्जीक रायनाइटिस

एलर्जीक रायनाइटिस एक ऐसी समस्या है जिसके कारण कई लोग परेशान रहते हैं | इस समस्या से ग्रस्त लोगों को धूल, फूलों के कल या बारिश का मौसम, ठंडा वातावरण इन सब की एलर्जी होती है । इन चीजों के संपर्क में आने से उन्हें छींक आना, नाक से पानी आना जैसी समस्याएं शुरू होती है ।

इस औषधि में मौजूद एंटीएलर्जी गुण एलर्जी के खिलाफ लड़ते हैं, जिससे एलर्जी राइनाइटिस की समस्या में काफी आराम मिलता है। इसके अलावा यह हमारी इम्यूनिटी को मजबूत बनाती है जिससे हम बीमारियों से दूर रहते हैं।

खांसी

खांसी की समस्या में हरिद्रा खंड आपके लिए बहुत ही उपयोगी औषधि है, इस औषधि में मौजूद सभी घटक खासी जुकाम को ठीक करने का काम करते हैं।

गीली खांसी या सूखी खांसी की समस्या में आप इस औषधि का सेवन कर सकते हैं। एलर्जी ब्रोंकाइटिस की समस्या में भी यह औषधि बहुत ही उपयोगी है l

बुखार

जिन लोगों के शरीर में हमेशा हल्का बुखार रहता है जिसके कारण उन्हें कमजोरी महसूस होती है ऐसे लोगों को इसका सेवन जरूर करना चाहिए।

खून बढ़ाना

शरीर में खून की कमी से एनीमिया की बीमारी हो सकती है। इससे बचने के लिए हरिद्रा खंड का सेवन करें। इसमें मौजूद गुण खून को बढ़ाने का काम करता है। हल्दी में मौजूद आयरन हमें एनीमिया की समस्या से बचाता है l

कोष्ठ शुद्धि

हल्दी में कृमिगन गुण मौजूद होते हैं जो पेट के कीड़ों को मार देते हैं। इस औषधि में मौजूद त्रिफला, कोष्ठ शुद्धि में सहायक होता है l साथ ही यह औषधि शरीर की गंदगी को साफ करती है |

मात्रा

इस दवा को आप ६ ग्राम से १० ग्राम की मात्रा को दिन में दो बार गर्म दूध के साथ ले सकते है | इस औषधि में शक्कर होने के कारन, डायबिटीज के मरीज को डॉक्टर की सलाह से ही इसका सेवन करना चाहिए |

बच्चे बूढ़े सभी लोग इसका सेवन कर सकते हैं लेकिन बच्चों को उम्र के हिसाब से कम मात्रा में औषधि देना फायदेमंद रहता है |

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.