गर्भावस्था में भूख ना लगने का कारण और उपाय

21

गर्भावस्था में पोषक तत्वों से भरपूर आहार मां और बच्चा दोनों की सेहत के लिए बहुत ही फ़ायदेमंद होता है। जानेंगे भूख ना लगने का कारण

इस दौरान गर्भवती को हल्का व्यायाम जरूर करना चाहिए,  इससे उनकी भूक बढ़ने लगेगी। 

इन दिनों में एक साथ पेट भरके के भोजन नहीं करना चाहिए। हर 2 घंटों में कुछ ना कुछ खाने से गर्भवती को फायदा मिलता है। इससे उनका पेट भी भरने लगता है और उनकी भूक भी बढ़ने लगती है।

भूक बढ़ाने के लिए गर्भवती को उसकी मन पसंदीदा चीजें खिलाएं। इससे उनका शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहेगा।

भूख ना लगने का कारण

गर्भावस्था के दिनों में कई महिलाओं को सुबह के दौरान काफी ज्यादा कमजोरी आने लगती है जिसके कारण वह कुछ भी खाने का मन नहीं बनाती और उनकी भूक खत्म होने लगती है। अगर इस तरह की समस्या है तो थोड़ा लेट उठे।

उठने के बाद थोड़ा घूमने के लिए जायेl  सुबह की धूप सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है। सुबह की धूप से आपको विटामिन D मिलेगा। विटामिन D एक ऐसा विटामिन है जो सिर्फ और सिर्फ धूप से ही मिलता है, जो हड्डियों के लिए बहुत ही जरूरी होता है।

अगर आपको सुबह-सुबह चाय पीने की आदत है तो इस आदत को जल्दी बदल दें, क्योंकि चाय और कॉफी का सेवन बच्चे की सेहत के लिए अच्छा नहीं होता हैl सुबह-सुबह अपना मन पसंदीदा जूस पीएं। इससे आपको भूक लगने लगेगी। अगर आप को जूस पसंद नहीं है तो आप कोई भी एक फ्रूट खा सकते हैं। फ्रूट में सुबह खाने के लिए सबसे अच्छा है सेब या चीकू |

अगर आपको सुबह-सुबह उलटी, मतली की समस्या होती है तो इसके लिए हर रोज सुबह खाली पेट आंवले के मुरब्बे का सेवन करेl 

प्रेगनेंसी के दिनों में योगा करने से भूक बढ़ती है। योगा में कई ऐसे आसन होते हैं जो मुख्य रूप से भूक को बढ़ाने के लिए किए जाते हैं।

गर्भावस्था में कोई भी व्यायाम करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें l और अगर आप योगा करना चाहते हैं तो किसी योगा टीचर की निगरानी में ही उसे करे l

गर्भावस्था के दिनों में पोषक तत्वों से भरपूर नाश्ता खाये l नाश्ते में आप पोहा, उपमा, इटली, डोसा, आमले, अंडा,अंकुरित अनाज खा सकते है l 

गर्भावस्था में आयरन की गोलियों के कारण, पेट पर होने वाले दबाव के कारण या फिर शरीर की हलचल ना करने के कारण महिलाओं को अक्सर कब्ज की शिकायत होती है | 

बार-बार होने वाले कब्ज के कारण महिलाओं को भूक नहीं  लगती,  अच्छी तरह से पेट साफ ना होने के कारण वह भोजन करने से भी डरने लगती हैl  फाइबर युक्त आहार का सेवन करने से पेट अच्छी तरह से साफ होने लगता है l 

इसके लिए अपने भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियां,  ककड़ी,  गोभी, चुकंदर टमाटर का समावेश जरूर करेl इससे पाचनआपका पाचन तंत्र स्वस्थ रहेगा। भरपूर मात्रा में पानी का सेवन करें।इससे भी आपका पेट अच्छी तरह से साफ होने में हेल्प मिलेगीl 

प्रेगनेंसी के दिनों में जंक फ़ूड का सेवन नहीं करना चाहिए।जंक फूड आपके और बच्चे के सेहत के लिए हानिकारक होता है। इसके सेवन से भूक कम लगने लगती है,शरीर में कमजोरी आने लगती है।कब्ज की शिकायत होने लगती है। इसलिए जब भी कभी आपका जंक फूड खाने का मन करे तब आप घर पर मुरमुरा,मूंगफली, चना या भेल  बना कर खा सकते हैं l

गर्भावस्था में महिला एक ही प्रकार का भोजन खाकर तंग आ जाती है। ऐसे में महिला को नये नये खाद्य पदार्थ बनाने चाहिए। इससे भूक लगने लगती है।

गर्भवती को ज्यादा देर तक भूका नही रहना चाहिए। इससे महिला को चक्कर आने लगती है। हर रोज खाना खाने के बाद सौंफ का सेवन करें। इससे आपको भूक लगने लगती है।

गर्भवती को किसी भी बात की बिल्कुल भी चिंता नहीं करना चाहिए। ज्यादा तनाव चिंता के कारण महिला की सेहत पर बुरा असर पड़ता है और भोजन करने का भी मन नहीं करता। इसलिए इन दिनों में महिला को तनाव से दूर रहना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं को हमेशा अपने पास काजू, बादाम, किशमिश, अंजीर, अखरोट जैसी ड्राई फ्रूट्स को एक साथ मिलाकर उसका एक डिब्बा रखना चाहिए और काम करते समय,या टीवी देखते समय बीच-बीच में उसमें से ड्राई फ्रूट्स का सेवन करना चाहिए।

गर्भावस्था में महिलाओं को घर का काम भी करना चाहिए। दिनभर सिर्फ लेटे रहने से महिला आलस्य का शिकार हो जाती है जिसके कारण उसे भूक नहीं लगतीl घर का काम करते रहने से शरीर की हालचाल होती है जिससे अच्छी तरह से भूक लगने लगती है साथ नॉर्मल डिलीवरी होने में भी सहायता मिलती है।

गर्भावस्था में हल्दी वाला दूध पीएं। इससे शरीर की इम्युनिटी पावर बढ़ने लगती है।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.