घी खाने के फायदे

15

घी एक भारतीय खाद्य पदार्थ है जो कि दूध के मक्खन से बनाया जाता है l 

घी में विटामिन A, D, E, K मौजूद होते है | साथ ही इसमें विटामिन के2 भी होता है। यह विटामिन कैल्शियम को हड्डियों तक ले जाने का काम करता है और हड्डियों को मजबूत करता है। विटामिन के2 के बिना हडि्डयां मजबूत नहीं होती|

घी में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और प्रोटीन पाए जाते है |

घी में  Antiaging गुण होते है जो हमें  बुढ़ापे से दूर रखते है | 

घी में मौजूद कॉन्जुगेटेड लिनोलेइक एसिड (ओमेगा-6 फैटी एसिड का एक प्रकार) होता है, जो न सिर्फ वजन घटाने में मदद करता है बल्कि कैंसर के खतरे को भी कम करता है।

घी में कैल्शियम, पोटैशियम, फोस्फरस जैसे खनिज तत्व मौजूद होते है |

घी मे मौजूद पोषक तत्व मानसिक और शारीरिक सेहत के लिए फायदेमंद है |

घी में मौजूद शॉर्ट चेन फैटी एसिड शरीर में हार्मोन बैलेंस को नियंत्रित रखता है | 

घी का सेवन पाचन तंत्र के लिए बहुत ही उपयोगी होता होता है, यह चयापचय की प्रक्रिया को बढ़ाता है और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है |

घी का सेवन दिल को स्वस्थ रखता है, हर रोज योग्य मात्रा में घी खाने से आपका दिल मजबूत रहता है |

घी एंटीऑक्सीडेंट का खजाना है,घी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर में फ्री रेडिकल से लड़ने का काम करते हैं और त्वचा को स्वस्थ रखते हैं|

घी के इस्तेमाल से त्वचा में नमी बनी रहती हैं और त्वचा खूबसूरत बनती है|

नर्वस सिस्टम के विकास के लिए घी विशेष लाभकारी है। इसके नियमित इस्तेमाल से ब्लड सर्कुलेशन भी सही रहता है|

घी ऊर्जा का बहुत ही अच्छा स्रोत है। अगर आप शरीर की कमजोरी, थकान की समस्या से परेशान हैं तो हर रोज घी का सेवन करें। इसके लिए आप हर रोज एक गिलास दूध में एक चम्मच घी मिलाकर इसे ले सकते हैं|

घी का नियमित सेवन करने से शरीर की इम्युनिटी पावर अच्छी बनती है और शरीर को रोगों से लड़ने की ताकत मिलती है|

लोग सोचते है की घी का सेवन करने से शरीर में फैट बढ़ेगा या कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगेगा लेकिन ये बिलकुल गलत बात है, देसी घी का सेवन करने से शरीर में कोलेस्टेरॉल का स्तर नियंत्रित रहता है | 

ख़राब कोलेस्ट्रॉल कम होने लगता है और अच्छे कोलेस्टेरॉल की मात्रा बढ़ने लगती है l इसलिए अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो अपने भोजन में तेल की जगह पर घी का इस्तेमाल करना शुरू करे |

बुढ़ापे में लोगों की हड्डियां बहुत ही कमजोर बन जाती है जिसकी वजह से हड्डियों में हमेशा दर्द बना रहता है। अगर आप बुढ़ापे में होने वाले इस दर्द से बचना चाहते हैं तो आज से ही घी का सेवन करना शुरू करें | घी में मौजूद पोषक तत्व हड्डियों को स्वस्थ रखने का काम करते हैं।

गर्भावस्था में बच्चे के विकास के लिए और मां की अच्छी सेहत के लिए विशेष लाभकारी है।प्रसूति के बाद महिलाओं के शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए भी घी का इस्तेमाल किया जाता है।

घी पुरुष और महिलाओं के प्रजनन अंगों के विकास के लिए भी विशेष उपयोगी है। घी के इस्तेमाल से महिलाओं में प्रजनन क्षमता बढ़ती है।

गाय के घी के फायदे

घी शारीरिक दुर्बलता, सूखी त्वचा वाले लोगों के लिए उपयोगी है l जो लोग वजन बढ़ाना चाहते हैं, उन्हें हर रोज अपने भोजन मे घी का समावेश करना चाहिए।

गाय का घी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। विटामिन ए एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो कैंसर को रोकने का काम करता है और गाय के घी में सबसे ज्यादा विटामिन ए होता है।

गाय के घी का सेवन करने से स्मृति और बुद्धिमान दोनों पड़ने लगते हैं। छोटे बच्चों से लेकर बूढ़े व्यक्ति तक सबके लिए गाय का घी बहुत ही लाभकारी है।

गाय के घी से सिर की मालिश करने से मन शांत हो जाता है और बहुत अच्छी नींद भी आती है। यह बालों के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता है।

गाय का घी त्वचा के लिए भी बहुत ही उपयोगी है। सर्दी के मौसम में त्वचा बहुत रूखी बन जाती है। ऐसे समय में आप त्वचा पर घी  लगा सकते हैंl घी एक मॉइस्चराइजर के रूप में कार्य करता है। यह त्वचा को मुलायम और सुंदर बनाता है।

डिलीवरी के बाद महिला को अपने भोजन में गाय के घी का समावेश करना चाहिए। प्रसूति के बाद महिलाओं के शरीर में कमजोरी आ जाती है। इस कमजोरी को दूर करने के लिए घी बहुत ही लाभकारी है।

स्तनपान करने वाली महिलाओं के लिए भी गाय का घी बहुत लाभकारी है। इसके सेवन से मां के दूध में वृद्धि होती है।शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने के लिए इसकी गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए गाय का घी बहुत गुणकारी है।

अल्सरेटिव कोलाइटिस, chrons diseses या पेट की सूजन में गाय के घी का सेवन करना चाहिए।

फटी एड़िया या फटे होठों के लिए गाय का घी लाभकारी है। इसके नियमित इस्तेमाल से फटी एड़िया मुलायम बढ़ने लगती है।

गाय का घी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है। दूध के साथ घी का सेवन करने से त्वचा हमेशा जवान बनी रहती है। मुंह में छाले आने की समस्या में गाय का घी बहुत लाभकारी है।

सख्त जोड़ों पर घी की मालिश करने से सूजन, जोड़ों की चिकनाई और गठिया के दर्द में आराम मिलता हैl 

चेहरे को खूबसूरत बनाने के लिए रात को सोते समय घी की कुछ बुँदे नाभि में डालेl 

छोटे बच्चों को घी देने के फायदे

अगर आप अपने 6 से 12 साल उम्र के बच्चे को भोजन में घी मिलाकर देते हैं तो उसका शारीरिक विकास कई गुना बढ़ जाता है। देसी घी बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। किसी भी प्रकार की दाल या दाल के पानी में घी मिलाकर बच्चों को देने से उनके पेट में गैस की शिकायत नहीं होती।

अगर बच्चों को बार बार कब्ज की शोकायत होती है तो उनके नाक में देसी घी की दो बुँदे छोड़े l बार होने वाली सर्दी, जुकाम के लिए घी को हल्का गर्म करके उसकी दो दो बुँदे रात को सोते समय नाक में डाले l 

दौड़ना, भागना बच्चों को बहुत अच्छा लगता है, इसके लिए उन्हें एनर्जी की बहुत जरूरत होती है,आहार में देसी घी का समावेश करने से बच्चों को भरपूर मात्रा में एनर्जी मिलती है और बच्चे क्रियाशील बनते हैं।

घी बच्चों के दिमागी विकास के लिए एक बहुत ही सर्वोत्तम आहार हैं।

मक्खन खाने के फायदे

विटामिंस, मिनरल्स और कैल्शियम से भरपूर मक्खन हड्डियों को मजबूत बनाकर ऑस्टियोपोरोसिस देसी समस्या से राहत दिलाने का काम करता है |

साथ ही मक्खन आपके दांतों के लिए भी बहुत फायदेमंद है | मक्खन में मौजूद आयोडीन और सेलेनियम आपके दिल को स्वस्थ रखता है |

गाय के दूध का मक्खन और मिश्री का सेवन करने से पुराना बुखार ठीक हो जाता है | मक्खन में मौजूद विटामिन ए और आयोडीन थायराइड ग्लैंड के लिए बहुत फायदेमंद होता है |

एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर मक्खन कैंसर से आपकी रक्षा करने के साथ ही त्वचा को भी फ्री रेडिकल सुरक्षित रखता है | यह त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद होता है |

गाय के दूध का मक्खन और तिल को मिलाकर खाने से पाइल्स की समस्या मेला होता है, इसके अलावा मक्खन में शहद और मिश्री मिलाकर खाने से भी पाइल्स ठीक हो जाता है |

प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए मक्खन बहुत ही लाभकारी होता है यह पुरुष और महिला के हरमन को बढ़ाने का काम करता है |

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.