सिंहपर्णी के फायदे

21

सिंहपर्णी एक प्रकार का पौधा है, जिसमें फूल पीले रंग का होता है। इसका वैज्ञानिक नाम टराक्सेकम ऑफिसिनल (Taraxacum Officinale) है। अंग्रेजी में इसे डैंडेलियन (Dandelion) और लायंस टूथ (Lion’s Tooth) के नाम से जाना जाता है। यह पौधा औषधीय गुणों से भरपूर माना जाता है।

सिंहपर्णी की जड़, फूल, पत्तियां सभी पौष्टिक गुणों से भरपूर है। इसमें विटामिन सी, विटामिन बी, विटामिन ए, और विटामिन बी कांपलेक्स मौजूद होता है। यह जस्ता लोहा कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटेशियम से भरपूर होता है। यह औषधि सेहत के लिए अत्यंत लाभकारी होती है l 

सिंहपर्णी की जड़ की चाय बनाकर पीने से लीवर में सुधार आ जाता है। यह एक प्रभावशाली शक्तिवर्धक के रूप में कार्य करता है l सिंहपर्णी पाचन शक्ति को उत्तेजित करके भूक में सुधार लाता है। यह पेट में हानिकारक कीटाणुओं का नाश करता है और अच्छे बैक्टीरिया के उत्पादन को बढ़ावा देता है । 

सिंहपर्णी की जड़े शुगर के रोगियों के लिए फायदेमंद हैl यह शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाता है और शुगर लेवल को नियंत्रित रखता है। यह आपके किडनी और लीवर को स्वस्थ रखता है।

सिंहपर्णी में भूक कम करने की और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने की क्षमता होती है। साथ ही इसमें कम होती है।

वजन घटाने के लिए सिंहपर्णी बहुत ही लाभकारी है। इसके लिए आप दिन में दो-तीन बार सिंहपर्णी की चाय पी सकते हैं।

इसके अलावा आप सिंहपर्णी को अपने सलाद में शामिल कर सकते हैं। इसकी पत्तियों की सब्जी बना सकते हैं।

सिंहपर्णी मूत्रवर्धक है। यह शरीर में मूत्र की मात्रा को बढ़ाकर सोडियम से छुटकारा पाने में सहायता करता है जो आपके ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है। 

यह फाइबर का भी बहुत अच्छा स्त्रोत है जो आपके कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखता है। सिंहपर्णी में मौजूद कैल्शियम,  एंटीऑक्सीडेंट आपकी हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसमें मौजूद विटामिन के हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखता है। इसके सेवन से ओस्टियोआर्थराइटिस का खतरा भी कम हो जाता है। 

सिंहपर्णी की जड़ शरीर की सूजन और जलन को समाप्त करती है। इसके लिए आप सिंहपर्णी चाय पी सकते हैं। इसके सेवन से कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है।

सिंहपर्णी के तने को बीच में जो तोड़ने से दूधिया रंग का सफेद रंग निकलता है, इसको आप दाद खुजली एक्जिमा या अन्य त्वचा विकारों में लगा सकते हैं मुहांसे और फंगल इन्फेक्शन में यह बहुत ही लाभकारी है।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.