स्किन कैंसर के कारण

7

स्किन कैंसर त्वचा की कोशिकाओं का असामान्य तरीके से बढना स्किन कैंसर कहलाता है, जो अक्सर धूप के संपर्क में रहने वाली त्वचा में होता है |  

लेकिन स्किन कैंसर कई बार सोचा उन हिस्सों में होता है, जो सामान्य रूप से धूप के संपर्क में नहीं आते या कम आते है। स्किन कैंसर के मुख्यतः तीन प्रकार होते हैं |  

बेसल सेल कार्सिनोमा यह सबसे सामान्य प्रकार का स्किन कैंसर है, जो त्वचा की कोशिकाओं में से उत्पन्न होता है। 

स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा भी ज्यादातर धूप के संपर्क में आने वाली शरीर के हिस्सों पर ही होता है। जैसे चेहरा गर्दन कान और हाथ | यह एक कठोर और लाल काट के रूप में या पपड़ी की परत के साथ घांव के रूप में तैयार होता है। 

मेलेनोमा शरीर में कहीं भी विकसित हो सकता है। सामान्य त्वचा पर या शरीर के किसी हिस्से का कोई तिल या मस्सा जो स्किन कैंसर में बदल जाता है। 

पुरुषों में मेलेनोमा अक्सर उनके चेहरा, पेट, कमर और सीने पर ही विकसित होता है और महिलाओं में अक्सर यह टांगों के निचले हिस्से पर विकसित होता है। 

गहरे रंग के बिंदु के साथ भूरे रंग का बड़ा धब्बा एक तिल या मस्सा जिसका रंग और आकार बदलने लगा हो या उसमें खून निकलने लगा हो |  

कैंसर के जोखिम के कारण

गोरी त्वचा में कम मेलेनिन होता है, जो अल्ट्रावायलेट रेज के से कम सुरक्षा प्रदान करते हैं। इसलिए गोरी स्किन में कैंसर का खतरा ज्यादा रहता है। 

बचपन या किशोरावस्था के दौरान अगर सनबर्न के कारण कभी एक या अधिक छाले बने तो ऐसे में वयस्क होने पर स्किन कैंसर के जोखिम बढ़ जाते हैं। 

कोई भी व्यक्ति अगर अत्यधिक समय धूप में बिताता है, तो उसके लिए स्किन कैंसर के जोखिम बढ़ सकते हैं | 

धूप और गर्मी की जगह पर ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर रहने पर शरीर अल्ट्रावायलेट रेज के संपर्क में आ जाता है और स्किन कैंसर हो सकता है।

जिन लोगों के शरीर पर ज्यादा या असामान्य तिल है उनको स्किन कैंसर का खतरा ज्यादा रहता है। अगर आप के माता पिता या भाई बहन को स्किन कैंसर है तो आपको भी होने के संभावना ज्यादा रहती है |

जिन लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है उनमें स्किन कैंसर विकसित होने का खतरा ज्यादा रहता है। 

एग्जिमा या मुहांसों के लिए जो लोग रेडिएशन से उपचार करते हैं, उनके लिए स्किन कैंसर के जोखिम का खतरा बढ़ जाता है और आर्सेनिक जैसे हानिकारक पदार्थों के सम्पर्क में आने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है |

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े – 

Leave A Reply

Your email address will not be published.