सोयाबीन खाने के फायदे

40

सोयाबीन एक महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ है। सोयाबीन एक प्रकार की फसल है जो उगाई जाती है। सोयाबीन के पौधे पर फलिया लगती है जिनसे सोयाबीन दानों को निकालकर प्रयोग किया जाता है। सोयाबीन की बढ़िया और मखाने बनाए जाते हैं और इनका प्रयोग सब्जी बनाने में किया जाता हैl

वैज्ञानिक नाम => ग्लाइसीन मैक्स

100 ग्राम सोयाबीन के पोषक तत्व

  • कैलोरी – 446 mg 
  • फैट-2 gm 
  • प्रोटीन – 36 gm
  • सोडियम- 2 mg
  • पोटेशियम- 1797 mg 
  • कार्बोहाइड्रेट- 30 gm

सोयाबीन के फायदे 

सोयाबीन का इस्तेमाल आप कई प्रकार से कर सकते हैं। सोयाबीन की सब्जी बना सकते हैं। सोयाबीन राइस बना सकते हैं। सोयाबीन की मंचूरियन पकोड़े बना सकते हैं। सोयाबीन से तेल निकाल सकते हैं। सोयाबीन का दूध निकाल सकते हैं।

सोयाबीन प्रोटीन का बहुत ही अच्छा स्त्रोत है। इसके अलावा इसमें विटामिन, खनिज, विटामिन, बी कांपलेक्स और विटामिन ए की भी भरपूर मात्रा होती है। यह सभी तत्व शरीर के लिए आवश्यक अमीनो  एसिड का काम करते हैं। इसके अलावा सोयाबीन में कार्बोहाइड्रेट वसा कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस जैसे मिनरल्स भी पाए जाते है।

सोयाबीन के फायदे और नुकसान

  1. सोयाबीन प्रोटीन का बहुत ही अच्छा स्त्रोत है। जिम जाने वाले लोगों के लिए प्रोटीन बहुत ही जरूरी होता है। प्रोटीन मसल्स को मजबूत बनाता है।
  2.  सोयाबीन का सेवन हड्डियों के लिए विशेष लाभकारी होता है। यह हड्डियों को पोषण देता है जिससे हड्डियां कमजोर होने का खतरा कम हो जाता है। 
  3. ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने के लिए भी सोयाबीन विशेष उपयोगी है। यह सिस्टोलिक डायस्टोलिक दोनों प्रेशर को कंट्रोल में रखता है जिससे व्यक्ति  हाइपरटेंशन की समस्या से दूर रह सकता है।
  4. सोयाबीन का सेवन मानसिक स्वास्थ्य को ठीक रखता है। मानसिक विकारों से बचने के लिए दिमाग को शांत रखने के लिए सोयाबीन बहुत ही बढ़िया है। 
  5. मधुमेह के मरीजों के लिए सोयाबीन बहुत ही उपयोगी है। इसमें कार्बोहाइड्रेट और वसा की मात्रा बहुत ही कम होती है। इस में पाए जाने वाला प्रोटीन ग्लूकोस को नियंत्रित करता है और इंसुलिन में आने वाली बाधा को कम कर सकता है।
  6. कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए सोयाबीन का सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन से खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है।
  7. सोयाबीन में भरपूर मात्रा में आयरन होता है।आयरन शरीर में खून की मात्रा को बढ़ाता है। यह हमें एनीमिया और ऑस्टियोपोरोसिस से बचाने का काम करता है। शरीर की कमजोरी को दूर करता है। 
  8. सोयाबीन दिल से जुड़े रोगों को ठीक करने का काम करता है। शरीर में LDL  का स्तर बढ़ने पर और HDL  का स्तर कम होने पर हृदय रोगों का खतरा बढ़ने लगता है। सोयाबीन का सेवन LFL के स्तर को कम करता है और HDL  के स्तर को बढ़ाता है। इससे हमारा दिल स्वस्थ रहता है।हृदय विकारों का खतरा कम हो जाता है।
  9. सोयाबीन में भरपूर मात्रा में फास्फोरस होता है। फास्फोरस दिमाग से संबंधित परेशानियां जैसे कि मिर्गी, याददाश्त कमजोर होना, सुखl रोग और फेफड़ों से संबंधित रोगों को दूर रखने में सहायता करता है l
  10. सोयाबीन शरीर के विकास में सहायता करता है।यह त्वचा, मांसपेशियाँ, नाखून और बालों के विकास में उपयोगी है।
  11. सोयाबीन में लेसीथीन नामक एक घटक पाया जाता है। यह हेल्थ के लिए बहुत ही फ़ायदेमंद होता है।
  12. अगर किसी व्यक्ति को सोयाबीन की एलर्जी है, तो उन्हें सोयाबीन का सेवन नहीं करना चाहिए।
  13. माइग्रेन या हाइपोथाइरॉएडिज्म के मरीजों को सोयाबीन का सेवन नहीं करना चाहिए।
चिकन, मटन से भी ज्यादा प्रोटीन सोयाबीन से मिलता है।

आयुर्वेदा का फेसबुक पेज लाइक करना मत भूलना।

और पढ़े –

Leave A Reply

Your email address will not be published.